संवाद सहयोगी, कालाकोट : शिक्षकों की मांगे पूरी न होने पर उनमें राज्य प्रशासन के खिलाफ काफी रोष देखा जा रहा है। उन्होंने पांच सितंबर को शिक्षक दिवस पर काला दिवस बनाने का फैसला किया है।

सोमवार को बैठक की अध्यक्षता करते हुए रहबरे-तालीम टीचर्स फोरम के प्रदेश मुख्य प्रवक्ता नरेश शर्मा ने कहा कि पिछले चार माह से एसएसए शिक्षक धरना प्रदर्शन करके सातवें वेतन आयोग के लाभ मिलने की मांग कर रहे है। पर राज्य प्रशासन लगातार उनकी समस्या की अनदखी कर रहा है। वह इन मांगों को लेकर तहसील जिला जोनल स्तर के अलावा जम्मू श्रीनगर में भी धरना प्रदर्शन कर कर चुके हैं, लेकिन उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है। शिक्षकों के धरने प्रदर्शन के चलते स्कूलों में शिक्षा प्रभावित हो रही हैं, लेकिन सरकार प्रशासन आंखें मूंदे हुए हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि हम शिक्षकों की मांगों पर सरकार व राज्य प्रशासन द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया जाता तो वह वाले शिक्षक दिवस को ब्लैक दिवस के तौर पर मनाएंगे।

बैठक में जोनल अध्यक्ष राज ¨सह, कबीर अहमद, सुनीता ठाकुर, कमलेश कुमारी, शीतल ¨सह, मुस्ताक शाद, जुल्फिकार अहमद आदि शिक्षक मौजूद थे।

Posted By: Jagran