जागरण संवाददाता, राजौरी : जिला प्रशासन जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शक्करमर्ग और गिरीजन घाटी में सात झीलों के लिए पांच दिवसीय ट्रेकिग अभियान की मेजबानी करने जा रहा है। इस अभियान में जम्मू-कश्मीर के अन्य जिलों और केंद्रशासित प्रदेश के बाहर के स्थानीय लोगों सहित लगभग सौ ट्रेकर्स के भाग लेने की उम्मीद है।

ट्रेकिग अभियान 14 सितंबर को बौद्ध कनारी दहराल के आधार शिविर से शुरू होगा और 18 सितंबर को खडीमर्ग में समाप्त होगा। मनोरंजक उद्देश्यों के लिए तीन सांस्कृतिक दल भी ट्रेकर्स के साथ चलेंगे। इस दल में शामिल लोगों को पीरपंजाल पर स्थित सात झीलों को भी करीब से देखने का अवसर मिलेगा।

ट्रेकिग अभियान के सुचारु संचालन के लिए चर्चा और व्यवस्थाओं को अंतिम रूप देने के लिए जिला उपायुक्त राजेश कुमार शवन ने पीडब्ल्यूडी डाक बंगले के सम्मेलन हाल में संबंधित अधिकारियों के साथ एक बैठक बुलाई। डीडीसी सदस्य दरहाल इकबाल मलिक, डीडीसी सदस्य थन्ना मंडी अब्दुल कयूम मीर, एएसपी विवेक शेखर, सीईओ आरडीए विवेक पुरी, डीएफओ राजौरी अर्शदीप सिंह, एसीडी सुशील खजूरिया, सीएमओ डा. शमीम उन निसा भट्टी, तहसीलदार दरहाल मुमताज मिर्जा, तहसीलदार थन्ना मंडी साहिल अली, एग्जीक्यूटिव इंजीनियर जलशक्ति राजौरी मुश्ताक अहमद के अलावा अन्य संबंधित अधिकारियों ने बैठक में भाग लिया।

बैठक में बताया गया कि अभियान का उद्देश्य राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देना और युवाओं में पर्यावरण व स्थानीय वनस्पतियों और जीवों के बारे में रोमांच व जागरूकता की भावना को बढ़ावा देना है। जिला उपायुक्त ने संबंधित अधिकारियों को अभियान में ट्रेकर्स की अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि प्रतिभागियों को उनके अभियान के दौरान सभी आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जाएं।

सीईओ आरडीए को तीन दिनों के भीतर प्रतिभागियों का पंजीकरण पूरा करने के लिए कहा गया, जबकि मुख्य चिकित्सा अधिकारी को डाक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ की एक टीम को तैनात करने और यह सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया गया कि ट्रेकर्स के लिए उनकी यात्रा के दौरान सभी चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं।

पुलिस विभाग को प्रतिभागियों की पूर्ण सुरक्षा के लिए कर्मियों को तैनात करने के लिए भी कहा गया।

Edited By: Jagran