संवाद सहयोगी, नौशहरा : कस्बे के युवा एवं बजुर्गों का मानना है कि नौशहरा के साथ सरकार की ओर से भेदभाव किया गया है। करोड़ों का नुकसान अहमियत नहीं रखता, यह लडाई अब हक की लड़ाई हो गई है।

ने बताया कि 30 दिन से अधिक दिन नौशहरा को जलते हो गए हैं परन्तु अभी तक सरकार का एक भी दल आंदोलनकारियों के पास यह पूछने के लिए नहीं आया कि उनको खाना भी मिल रहा है या नही। बैंक एटीएम व सरकारी कार्यालय बंद पडे़ हैं। दुकानों में रखा सामान नष्ट हो चुका है पर अब नौशहरा की जनता अपने हक की लडाई में पीेछे हटने वाली नही है।

-नीटू गुप्ता

लाठी गोली खांएगे नौशहरा को जिला बनाए गए सरकार हम पर जितने भी सितम ढाना चाहती है ढा ले परन्तु अब वह पीेछे हटने वाले नही है। 70 वर्ष से लोगों साथ अन्याय हो रहा है अब और सहन करने की शक्ति हमारे पास नहीं रही है।

-अशोक चौधरी

एक तरफ हमें पाक द्वारा की जाने वाले गोलाबारी को रोज सहन करना पड़ रहा है उपर से सरकार भी हमारे साथ ऐसा कर रही है। लोग पहले से ही सताए हुए लोग हैं अब जो मर्जी हो सरकार हमारे पर जितने भी सीतम करे हम एक है लेकर ही रहेंगे अपना जिला।

- दिवेन्द्र शर्मा

उनकी आयु 70 वर्ष के करीब है और जब से 1948 से हमारे लोगों के साथ भेदभाव किया जा रहा है हर बार हमारी आवाज को दबा दिया गया है परन्तु इस बार की जो आवाज उठी है उसे कोई भी दबा नही सकता है ।

-रतन लाल

By Jagran