जागरण संवाददाता, राजौरी : केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के चार अक्टूबर को राजौरी दौरे की व्यवस्था के लिए नगर परिषद राजौरी के सफाईकर्मी अनसुने नायक हैं। सीमित मानदेय पर काम करने वाले ये सफाईकर्मी रैली स्थल व आसपास सफाई के लिए समर्पण के साथ काम कर रहे हैं।

ये सफाईकर्मी, जिन्हें स्थानीय रूप से सफाई कर्मचारी कहा जाता है, विभिन्न विभागों में काम करने वाले दैनिक वेतन भोगी और आकस्मिक श्रमिकों के लिए कुछ घोषणा की उम्मीद कर रहे हैं, क्योंकि वे भी इसी श्रेणी में आते हैं। नगर परिषद राजौरी की छत्रछाया में इन कर्मचारियों को सलानी पुल के पास नए बस स्टैंड पर सफाई और कचरा व सामग्री के संग्रह के लिए नियुक्त किया गया है, जो आयोजन की अन्य व्यवस्थाओं के लिए आवश्यक है।

नगर परिषद के सफाई कर्मी सिकंदर खान, राम बचन, लियाकत अली ने बताया कि वे कई अन्य लोगों के साथ आयोजन स्थल और उसके आसपास सफाई के लिए तैनात हैं, जिसके लिए जनशक्ति अथक प्रयास कर रही है। हम इस काम के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं और रेत, मिट्टी और अन्य कचरा सामग्री की सफाई जारी है। खान ने कहा कि साफ-सफाई का यह काम थोड़ा कठिन है, क्योंकि वाहनों का इंजन आयल बस स्टैंड की सतह पर पड़ा है।

सिकंदर खान और नगर परिषद के अन्य सफाई कर्मचारियों ने आगे कहा कि गृह मंत्री के दौरे से विशेष रूप से दैनिक ग्रामीणों और आकस्मिक श्रमिकों की मांगों को लेकर काफी उम्मीदें हैं। हम नौ हजार रुपये प्रति माह के मामूली वेतन पर काम कर रहे हैं और हमारे जैसे हजारों लोग विभिन्न विभागों में काम कर रहे हैं जो अपने मुद्दों को हल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं। हम भी बड़ी उम्मीद करते हैं कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह हमारे लिए कुछ घोषणा करेंगे।

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट