संवाद सहयोगी, सुंदरबनी : सुंदरबनी ब्लाक के बीडीसी चेयरमैन अरुण शर्मा ने सेरी ब्लाक के कई गावों का दौरा किया। ग्रामीणों ने अपनी समस्याएं बीडीसी चेयरमैन के समक्ष रखीं। उन्होंने इन समस्याओं का तत्काल निवारण करवाने का उनसे अनुरोध किया।

इस अवसर पर स्थानीय लोगों ने कहा कि कुछ वर्ष पहले सीमावर्ती गाव कलाली, मंगयोट, दबूड़ा आदि के लोगों की सुरक्षा के लिए सरकार की ओर से मोर्चे बनाने का कार्यक्त्रम शुरू किया गया था, ताकि पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गोलाबारी से सीमावर्ती लोगों को बचाया जा सके। मगर इसे जल्दबाजी में बनाए हुए मोर्चे कहें या फिर निर्माण सामग्री का दोयम दर्जे का प्रयोग की सरकार द्वारा सीमावर्ती लोगों की सुरक्षा के लिए बनाए गए मोर्चे अब एक तालाब का रूप ले चुके हैं। यहा पर कई प्रकार के जलचर, साप, मेंढक व अन्य प्रकार की गंदगी व बीमारिया फैलाने वाले मच्छर आदि की भरमार है। इससे ग्रामीणों की समस्याएं दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं। ग्रामीणों ने बीडीसी चेयरमैन सुंदरबनी अरुण शर्मा से यह आग्रह किया कि वह इस समस्या को तत्काल उच्च प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष रखें, ताकि इनके पुनर्निर्माण की तरफ कदम उठाया जाए। इसके साथ-साथ सीमावर्ती गाव कलाई के लोगों का कहना है कि जो सीमावर्ती गाव के लोगों के लिए सामुदायिक भवन आए थे, वे समुदायिक भवन मोर्चे के रूप में सरकार ने कहा बनाए हैं। किन्ही फाइलों और कागजों में ही बनाए हैं, इसका उन्हें कुछ बान और ज्ञान नहीं है। उन्होंने बीडीसी चेयरमैन से अनुरोध किया कि वह सरकार तक इस बात को पहुंचाएं और उन समुदायिक भवनों को ढूंढने का कार्य करवाएं, ताकि लोगों को सामुदायिक भवन रूपी मोर्चा में अपनी जान बचाने और छिपाने का सौभाग्य प्राप्त हो सके।

Edited By: Jagran