संवाद सहयोगी, पुंछ : पारंपरिक फसलों की खेती में लगातार कम हो रहे मुनाफे और खराब मौसम की वजह से किसानों को भारी नुकसान हर फसल में उठाना पड़ता है। ऐसे में किसान अब नई-नई फसलों की खेती की तरफ रुख कर रहे हैं और ठीक-ठाक मुनाफा कमाने की ओर अपने कदम बढ़ा रहे हैं।

सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से किसानों को फसलों की तकनीकी और लाभ पहुंचाने की लगातार कोशिश कर रही है। सुंदरबनी में इस समय बागवानी विभाग की ओर से मुफ्त में किसानों को स्ट्राबेरी के पौधे दिए जा रहे हैं। बागवानी विभाग के तहसील अधिकारी अरुण शर्मा ने बताया कि कम लागत पर किसान अधिक मुनाफा कमा सकते हैं। बागवानी विभाग की ओर से किसानों को निश्शुल्क स्ट्राबेरी के पेड़ और शीट दिए जा रहे हैं। अरुण शर्मा ने बताया कि पिछले साल सुंदरबनी की विभिन्न पंचायतों में किसानों ने 34 कनाल जमीन में स्ट्रॉबेरी की खेती की थी। उन्होंने बताया कि स्ट्राबेरी औषधीय पौधे के साथ-साथ सब्जी, आचार व कई कामों में इसका प्रयोग किया जाता है। स्ट्राबेरी की पत्ती आयरन युक्त रहने के कारण यह औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है। निश्चित ही आने वाले दिनों में सुंदरबनी के विभिन्न पंचायतों में अधिक रकबे में स्ट्राबेरी की खेती होने की संभावना बनी है। अरुण शर्मा ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि सरकार की ओर से चलाई जा रही इस योजना का किसान पूरा फायदा उठा कर अपनी आमदनी को बढ़ाएं। उन्होंने कहा की जानकारी के अभाव में किसान योजनाओं का समुचित लाभ नहीं ले पाते।

Edited By: Jagran