जागरण संवाददाता, पुंछ : उप जिला मेंढर के अढ़ी गांव में उस समय लोगों ने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों पर पथराव शुरू कर दिया जब प्रशासनिक अधिकारी क्षेत्र में लोगों द्वारा पिछले कई दिनों से रोकी गई हैंडपंप लगाने वाली मशीन को निकालने के लिए गए थे। इस पथराव में थाना प्रभारी मेंढर सहित चार पुलिस के जवान घायल हो गए, जबकि जवाबी कार्रवाई में दस के करीब स्थानीय लोग भी घायल हुए हैं। पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोले भी दागे।

जानकारी के अनुसार अढ़ी क्षेत्र में हैंडपंप लगना था। कुछ लोग इसे अपने क्षेत्र में लगवाने की मांग कर रहे थे। पिछले 20 दिनों में हैंडपंप निकालने वाली मशीन को स्थानीय लोग वहां से हिलने नहीं दे रहे थे और मांग कर रहे थे कि हैंडपंप हमारे क्षेत्र में लगेगा, जबकि हैंडपंप की मंजूरी दूसरे क्षेत्र के लिए थी। एसडीएम मेंढर राहुल यादव ने नायब तहसीलदार को पुलिस के जवानों व थाना प्रभारी संजय गुप्ता के साथ मौके पर भेजा और मशीन को वहां से निकाल कर दूसरे क्षेत्र के लिए रवाना करने का आदेश जारी किया। जैसे ही पुलिस के जवान मौके पर पहुंचे और मशीन को वहां से हटवाने का कार्य शुरू किया तो लोगों ने उस समय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के ऊपर पथराव शुरू कर दिया। इस पथराव में मेंढर के थाना प्रभारी संजय गुप्ता के साथ पुलिस के चार जवान भी घायल हो गए। उसी समय पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी। इस जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने लोगों को हटाने के लिए आंसू गैस के गोले भी दागे। हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि पुलिस ने करीब चार राउंड हवा में गोलियां भी चलाई है, लेकिन पुलिस ने इससे इंकार कर दिया है। वहीं, पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागने के साथ-साथ लाठी चार्ज भी किया, जिसमें दस के करीब लोग घायल बताए जा रहे हैं।

वहीं, स्थानीय लोगों ने मेंढर-पुंछ सड़क जाम कर प्रदर्शन शुरू कर दिया है। पुलिस व प्रशासन के उच्च अधिकारी लोगों को शांत करवाने का प्रयास कर रहे हैं। फिलहाल प्रदर्शन का सिलसिला जारी है। क्षेत्र में तनाव को देखते हुए प्रशासन ने भारी संख्या में पुलिस व सीआरपीएफ के जवानों को तैनात कर दिया है।

Posted By: Jagran