जागरण संवाददाता, कठुआ: बैक टू विलेज के बाद सोमवार से जिले के शहरी क्षेत्र में 'मेरा शहर मेरी शान' कार्यक्रम का आयोजन कर गावों की तर्ज पर शहरी क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनीं जाएगी। हालांकि, शहर में इस तरह का पहला कार्यक्रम होगा। इससे अब शहर में विकास की गति और तेज होने की उम्मीद जगी है।

जिला मुख्यालय पर महिला डिग्री कॉलेज में आयोजित हो रहे कार्यक्रम में पशु एवं भेड़पालन विभाग के आयुक्त सचिव नवीन चौधरी एवं उच्च शिक्षा विभाग के आयुक्त तलत परवेज रोहेला बतौर विजिटिंग अधिकारी के रूप में उपस्थित होकर समस्या सुनेंगे। इस दौरान शहरवासी अपने- अपने क्षेत्र की समस्याओं को रखेंगे और उसके समाधान की मांग करेंगे। जहा विकास की जरूरत है या नहीं हो रहा है, उसके लिए पार्षद विकास के लिए अपना प्रस्ताव पेश करेंगे। कार्यक्रम में सभी पार्षद अपने-अपने वार्ड की समस्या को उठाने के अलावा भविष्य की योजनाओं पर भी अपनी ओर से प्लान प्रस्तुत करेंगे। अधिकारी पार्षद के साथ बैठक करने के अलावा 14 एवं 15वें फाइनेंस के तहत मिले फंड पर योजना बनाकर काम करेंगे।

इसके अलावा अधिकारी शहर के विभिन्न वार्ड का दौराकर समस्याओं का जायजा लेंगे। जहां जहां विकास की जरुरत है, उस पर कार्य शुरू करवाएंगे। शहर में धीमी गति से जारी विकास कार्य एवं रुकी परियोजनाओं के कारण भी जानेंगे। कठुआ जिला मुख्यालय पर नगर परिषद के अलावा हीरानगर, बसोहली, बिलावर, लखनपुर और नगरी म्यूनिसिपल कमेटियों में भी 'मेरा शहर मेरी शान' कार्यक्रम होगा। वहा पर अलग विजिटिंग अधिकारी उपस्थित होंगे। इस कार्यक्रम को लेकर पार्षदों में उत्साह है, जो अपने अपने वार्ड की समस्या को प्रमुखता से उठाने का प्रयास करेंगे। बाक्स----

इन विकास कार्यो का होगा शुभारंभ

- शहर में कालीबड़ी एवं शहीदी चौक पर दशकों पुरानी समस्या के समाधन के लिए नगर परिषद द्वारा तैयार किए गए 12- 12 लाख की लागत से दो शौचालयों का लोकापर्ण होगा।

- मुखर्जी चौक में मल्टीटियर शापिंग काप्लेक्स के निर्माण का नींव पत्थर रखा जाएगा।

-शहर के विभिन्न वार्ड में बन कर तैयार हुए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत लाभाíथयों को घरों की चाबिया सौंपी जाएगी। कोट्स---

नगर परिषद के दायरे में आज से शुरू होने जा रहे मेरा शहर मेरी शान कार्यक्रम, जिसे उपराज्यपाल के प्रयास से किया जा रहा है। इससे शहर का विकास और तेज होगा। सरकार तक वो समस्याएं पहुंचेंगी, जिनका आज तक हल ही नहीं हो पाया है। नगर परिषद तो पहले से ही इस तरह के कार्यक्रम की माग कर रही थी, क्योंकि अभी भी शहर में बहुत विकास किया जाना है, जिसमें मुख्य रूप से लेन ड्रेन का कार्य है। इसके अलावा शहर में खाली पड़ी सरकारी भूमि को नगर परिषद को सौंपने की माग रखी जाएगी, ताकि नप उसका इस्तेमाल कर वहा पर शापिंग काप्लेक्स तैयार करके अपने आय के स्त्रोत बढ़ाकर प्रधानमंत्री के आत्म निर्भर भारत बनने के सपने को साकार किया जा सके।

-नरेश शर्मा, प्रधान, नगर परिषद, कठुआ।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस