जागरण संवाददाता, कठुआ: कोरोना महामारी की चुनौती के बीच भी शहर में राम लीला का मंचन शुरू हो गया है। मंचन को लेकर आयोजकों एवं कलाकारों में उत्साह देखा गया। शनिवार रात को राम लीला मैदान में राम नाटक सभा द्वारा दशकों पुरानी परंपरा को जारी रखते हुए इस बार भी आयोजित राम लीला मंचन का नप प्रधान नरेश शर्मा ने राम नाटक सभा के प्रधान प्रदीप सिंह पार्षद राहुलदेव शर्मा, संजीव वैध, भुपेंद्र राज की उपस्थिति में रिबन एवं नारीयल फोड़ कर उद्घाटन किया। रिबिन काटते ही मंच पर जय श्री राम की जयघोष से पंडाल गूंज उठा। इसके उपरात भगवान गणपति की एवं प्रभु श्री राम की सर्वप्रथम आरती उतारी गई। नप प्रधान नरेश शर्मा ने राम नाटक सभा के पदधिकारियों एवं कलाकारों को शहर में ऐसे धाíमक आयोजन के प्रयास जारी रखने पर बधाई दी और कहा कि जहा पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है,वहीं इस चुनौतीपूर्ण कार्य को दृढ़ निश्चय ये करना सराहनीय कार्य है,क्योंकि कोरोना प्रकोप को भी धाíमक अनूष्ठान एवं आयोजन करके रोकने के प्रयास माने जाएंगे, ऐसे आयोजन से प्रभु इस प्रकोप को अवश्य कम करेंगे और फिर से समाज में सब कुछ सामान्य होगा। उन्हाने इस मौके पर उपस्थिति को प्रभु श्री राम द्वारा बताए गए आदर्शो पर चलने का आह्वान किया और कहा कि प्रभु राम ने हम सब को मर्यादा से जीवन जीने की राह दिखाई,वहीं बताया कि कैसे कठिन से कठिन परिस्थिति में जीवन जीना है और उनका कैसे मुकाबला करना है। हमे ऐसे आयोजनों से सीख लेनी होगी और समाज के लिए काम करना है। इसी बीच पहले दिन भगवान शकर से रावण द्वारा च्रदहास हासिल करने, रावण वेदमति संवाद एवं दशरथ द्वारा श्रवण वध के दृश्य मंचित किए गए। जिनका दर्शकों ने आनंद उठाया। श्रवण वध से दर्शकों की आखे नम हो गई। कई सालों से रावण की भूमिका में नीरज सिंह ने भगवान शकर से संवाद करके उपस्थिति को प्रभावित किया। वहीं भगवान शकर की भूमिका में साíथक शर्मा ने उपस्थित का मन मोहा। वेदमति की भूमिका में अभितेष शर्मा ने वाहवाही लूटी। दशरथ की भूमिका में विश्वप्रताप सिंह और श्रवण की भूमिका में स्वतंत्र भारत ने पंडाल में बैठे दर्शकों से खूब तालिया बटोरी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस