संवाद सहयोगी, कठुआ : श्री अमरनाथ यात्रा के चलते सुरक्षा दृष्टि से सरकार कोई भी कोताही नहीं बरतना चाहती है। राज्य के प्रवेशद्वार पर लगातार बढ़ रही भिखारियों की फौज के चलते पुलिस भी हरकत में आई हैं। यात्रा तैयारियों को लेकर लखनपुर में गत दिनों आयोजित बैठक में भिखारियों की बढ़ रही तादाद का मुद्दा उठा था। जिसके बाद अधिकारियों के निर्देशों पर लखनपुर से भिखारियों की फौज को उठाया गया है। जिला पुलिस प्रमुख के निर्देशों पर थाना प्रभारी राजेश शर्मा की अगुवाई में पुलिस के जवानों ने विशेष तौर पर लखनपुर में अभियान चलाकर भिखारियों को उठाया जबकि बाद में उन्हें थाना ले जाकर उनके पहचान पत्रों की जाच की गई। पुलिस ने उन्हें चेतावनी दी कि वह भीख न मागें यात्रियों को इससे परेशानिया आ रही हैं।

लखनपुर भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष गौरव शर्मा ने कहा कि इस समस्या से दुकानदारों के साथ साथ यात्रियों को परेशानिया आ रही थीं जबकि पुलिस ने यह कदम उठाकर सराहनीय कदम किया है। यात्री पिछले दो-तीन साल से पेरशान थे। अमरनाथ यात्रा के दौरान लखनपुर मे गाड़िया रुकती हैं ऐसे में ये लोग कौन हैं सुरक्षा दृष्टि से भी इसकी जाच होनी चाहिए ताकि कोई ऐसी स्थिति न बने। जिससे यात्रियों को परेशानी न हो। थाना प्रभारी राजेश शर्मा ने बताया कि बस अड्डे के दौरा के दौरान अधिकाश छोटे बच्चे भीख मागते पाए गए। जिनके परिजनों को कह दिया है कि वे अपने बच्चों को भीख मागने के लिए न भेजें। वही जो असहाय भिखारी हैं उनसे अनुरोध किया गया है कि पुलिस उन्हें वृद्धाश्रम में छोड़ आती हैं। उनकी अच्छी देखरेख होगी।

गौरतलब है। कस्बे के बस अड्डे पर कार सवार भिखारियों के डर से अपनी कार को खड़ी करने से कतराने लगे हैं। उन्हें भय रहता है कि कहीं कोई भिखारी न आ टपके और उसे भीख न देने पर भिखारी कार सवार पर बद दुआओं की बौछार न कर दें। बस अड्डे के आसपास कई भिखारी जिनमें छोटी आयु के बच्चे भी शामिल हैं, जब भी कोई कार बस अड्डे पर रुकती है तो वे कार सवार से पैसा मांगना शुरू कर देते हैं। यदि कार सवार पैसे देने से मना करता है तो वे कार की खिड़कियां व शीशे जबरदस्ती खोल परेशान करना शुरू कर देते हैं। भिखारियों की इस प्रकार की बदसलूकी के चलते अपनी कार को बस अड्डे के आसपास रोकने से कतराते हैं। जिससे कार चालकों व सवार को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। दुकानदारों को काम काज करने मे परेशानी हो रही है। श्री अमरनाथ यात्रा को लेकर सरकार भी गंभीर है। सुरक्षा दृष्टि से सरकार किसी तरह की अनदेखी नहीं करनी चाहती। यही कारण है कि बैठक में भिखारियों का मुद्दा उठने के बाद त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस टीम द्वारा भिखारियों को हटाया गया।

Posted By: Jagran