संवाद सहयोगी, रामकोट: अस्पताल में डाक्टर समेत अन्य कर्मियों के उपस्थित न होने पर सरपंच ने सीएमओ से शिकायत की, जिसके बाद अनुपस्थित रहे कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वासन दिया गया।

दरअसल, कस्बे के प्राथमिक उपचार केंद्र में 28 कर्मचारियों का पद सृजित है। सरपंच प्रदीप सिंह ने बताया कि अस्पताल में तीन डाक्टरों सहित कुल 28 कर्मचारियों के पद हैं। रोस्टर के अनुसार 16 कर्मचारियों को हर समय उपस्थित रहना है, लेकिन अस्पताल पहुंचने पर कई कर्मचारी अनुपस्थित मिले। इनमें एक पुरुष व चार महिला कर्मचारी शामिल है। सरपंच ने बताया कि प्राथमिक उपचार केंद्र में एक्स-रे की सुविधा है, परंतु उसे चलाने के लिए कर्मचारी उपलब्ध नहीं रहते। करीब 7 माह पहले यहा से एंबुलेंस भी हटा ली गई, जो अभी तक वापस नहीं भेजी गई। अस्पताल में कोई भी सफाई कर्मचारी तक की डयूटी नहीं लगाई गई है। इसके कारण स्टाफ को स्वयं ही सफाई करनी पड़ती है। यहा पर ईएनटी की भी कोई सुविधा हासिल न होने के कारण लोगों को शहरों की तरफ भागना पड़ता है। यहा पर दो डाक्टर एक सीएचओ और नर्स के छह पद खाली पड़े हुए हैं।

सरपंच प्रदीप सिंह ने सीएमओ डाक्टर अशोक चौधरी को कर्मचारियों के अनुपस्थित रहने संबंधी जानकारी देते हुए बताया कि इस अस्पताल में एक महिला डाक्टर की नियुक्ति हुई है जो अभी छुट्टी पर है। सरपंच का कहना है कि डॉक्टरों के न होने के कारण ओपीडी दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। इस पर सीएमओ ने समस्याओं का संज्ञान लेते हुए सुविधाएं उपलब्ध करवाने और अनुपस्थित कर्मचारियों पर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप