जागरण संवाददाता, कठुआ : जिले में शुक्रवार को वीकेंड लाकडाउन को लेकर असमंजस की स्थिति रही। हालांकि, कहीं दुकानें खुलीं रहीं तो कई हिस्सों में दुकानें बंद भी रही। इस दौरान खरीदारी करने के लिए लोगों की बाजार में भीड़ उमड़ पड़ी। प्रशासन का भी रुख लाकडाउन को लेकर नरम रहा और दुकानों को बंद करवाने को लेकर ज्यादा सख्त नजर नहीं आया।

दरअसल, कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने प्रदेश प्रशासन के आदेश पर शुक्रवार को 2 बजे से वीकेंड लॉकडाउन लगाने की घोषणा की थी, लेकिन उक्त आदेश को लेकर दिन भर दुकानदारों व लोगों में असमंजस बना रहा। शुक्रवार सुबह से दोपहर 2 बजे तक बाजार में तीन दिनों तक लगने वाले लॉकडाउन को लेकर खरीदारी के लिए भीड़ उमड़ गई। इसके चलते बाजार में अफरातफरी का माहौल रहा। पुलिस प्रशासन ने एक घंटा पहले ही लाउड स्पीकर से लोगों को 2 बजे से लॉकडाउन लागू होने की सूचना देते हुए पालन करने का ढिढोरा पीटा। इसके बाद भी कठुआ शहर में प्रशासन के आदेश प्रभावी होता नहीं दिखा। बाजार में अधिकांश दुकानें खुली रहीं, कुछ बंद भी हो गई, वहीं पुलिस ने भी दुकानदारों पर लॉकडाउन 2 बजे से प्रभावी बनाने के लिए ज्यादा जोर नहीं डाला।

बताया जाता है कि लाकडाउन को लेकर असमंजस का कारण जम्मू में डीसी द्वारा चेंबर के आग्रह पर शाम तक दुकानें खोलने का समय देने के आदेश को लोग कठुआ में भी प्रभावी मानने लगे, जबकि कठुआ के डीसी द्वारा ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया। जम्मू के डीसी के आदेश को लेकर कठुआ में भी असमंजस जरूर बना रहा, जिसके कारण दुकानें शाम को ही बंद हुई। इसके लिए पुलिस ने शाम साढ़े पांच बजे के बाद फिर बाजार में लाउड स्पीकर से ढिढारा पीटा, जिसके बाद दुकानें बंद हो गई। इस तरह के माहौल में सुबह लोग और दुकानदार दो बजे लॉकडाउन लगने को लेकर पूरी तरह से तैयार थे, बाजार में तीन दिन का अति जरूरी सामान खरीदने के लिए बाजार में पहुंच गए। बाजार में एकदम बढ़ी खरीदारों की भीड़ से माहौल अफरातफरी जैसा रहा।

भीड़ इतनी कि कोविड-19 के प्रोटोकाल की पालन को दरकिनार कर शारीरिक दूरी का भी पालन लोग करते नहीं दिखे। बहरहाल, शुक्रवार शाम 6 बजे से अब सोमवार सुबह 6 बजे तक 60 घंटे का वीकेंड लॉकडाउन रहेगा। इस दौरान गैर जरूरी सामान की दुकानें पूरी तरह से बंद रहेंगी। सिर्फ आवश्यक सेवाओं वाली दुकानें सुबह से दिन के 11 बजे तक खुली रहेंगी, जबकि आपात सेवाएं 24 घंटे खुली रहेंगी।

Edited By: Jagran