संवाद सहयोगी, हीरानगर : उपमंडल में सरकारी जमीन खाली करवाने का क्रम जारी है। डींगा अंब तहसील के खैरी गांव में मंगलवार को भी तहसीलदार सुनील डोगरा के नेतृत्व राजस्व विभाग की टीम ने 149 कनाल जमीन खाली करवाई।

गौर हो कि इस महीने यानि नवंबर माह में विभाग 42 किसानों से 498 कनाल सरकारी जमीन खाली करवा चुका है, जबकि तहसील में कुल सरकारी जमीन 6600 कनाल है, जिसे विभाग की ओर से खाली करवाया जाना है। मढीन तहसील में भी 300 कनाल के करीब जमीन की बेदखली विभाग कर चुका है। राजस्व विभाग की ओर से लगातार जारी कार्रवाही से किसानों में मायूसी छाई हुई है, जिस जमीन को वे अपना समझ कर वर्षों से खेती योग्य बना रहे थे, उसे जाते देख किसान खून के आंसू रो रहे हैं।

किसान बलकार चंद, दर्शन लाल, मनोहर लाल, गिरधारी लाल व विशंभर दास का कहना है कि अगर राजस्व विभाग हाई कोर्ट के आदेश पर जमीन खाली करवा रहा है तो सरकार को इसे रूकवाने के लिए कोर्ट जाना चाहिए था। कोई भी राजनीतिक दल उनकी मदद के लिए आगे नहीं आ रहा। उन्होंने कहा कि एक तो पहले ही बच्चों को रोजगार नहीं मिल रहा। उनके भविष्य की चिता सता रही थी। अब वे जमीन भी छिनी जा रही है, जिसमें खेती कर परिवार की गुजर बसर करते आ रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर सरकार जमीन पर कहीं माफिया अवैध कब्जे कर रहा है तो उस पर कार्रवाई होनी चाहिए थी। ऐसे हालात में तो किसान भूखमरी का शिकार हो जाएंगे।

Edited By: Jagran