जागरण संवाददाता, कठुआ: जिले में कोरोना के कम हुए प्रकोप के बाद स्वास्थ्य विभाग अब डेंगू से निपटने को लेकर सक्रिय हो गया है, क्योंकि जिले में डेंगू के आए दिन नए मामले आने से खतरा बढ़ता जा रहा है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का दावा है कि डेंगू के प्रकोप से डरने की जरूरत नहीं है, लेकिन एहतियात बचाव के लिए अति जरूरी। जिले में अभी डेंगू से किसी की मौत नहीं हुई है जो राहत की बात है।

बुधवार को जिले में 17 और डेंगू के मामले आने से संख्या 81 पहुंच गई। डेंगू की चपेट में गोविदसर गांव है, जो शहर से सटा हुआ है, लेकिन एक ही गांव 49 लोगों को डेंगू डंक मार चुका है। गोविदसर में 6 और नए मामले बुधवार को आने के बाद स्वास्थ्य विभाग गोविदसर गांव के हालात को देखते हुए रोकथाम के लिए पूरी तरह से अलर्ट हो गया है। सीएमओ डॉ. अशोक चौधरी के निर्देश पर जिला स्वास्थ अधिकारी डा. सुमीना नाजीर के नेतृत्व में एक विशेष टीम गांव पहुंची, जिसमें बीएमओ नगरी भी शामिल रहे। इस बीच शहर में भी 3 नए मामले आने से संख्या 14 हो गई है। इस समय 20 डेंगू पीड़ित मरीजों का जीएमसी में इलाज चल रहा है। इसमें 12 मेडिसीन, 7 पीड्रियाडिक वार्ड में और एक बच्चा पीकू वार्ड में उपचाराधीन है।

जिला स्वास्थ अधिकारी डॉ. सुमीना नाजीर ने बताया कि डेंगू के प्रकोप से पहले पीड़ित हुए कई मरीज स्वस्थ होकर घरों को भी लौट गए हैं। बाक्स----

प्रभावित गांव गोविदसर में लगाया विशेष शिविर

गांव गोविदसर में डेंगू के 49 मामले आने के बाद स्वास्थ अधिकारी डॉ. सुमीना नाजीर के नेतृत्व में एक विशेष टीम ने बुधवार को वहां विशेष जागरूकता शिविर लगाकर गांववासियों को बचाव के लिए जागरूक किया। डॉ. सुमीना नाजीर के साथ स्वास्थ विभाग की बीएमओ सहित एक विशेष टीम वहां पहुंची, वहीं मेडिकल कॉलेज के प्रशिक्षु डॉक्टरों का दल भी वहां इसके फैलने के कारण का अध्यण करने पहुंचा। इस दौरान स्वास्थ विभाग की टीम ने गांव की प्रत्येक गली, मोहल्ले एवं घर- घर में जाकर डेंगू के बचाव एवं उपाए के लिए पोस्टर चिपकाए। इसके अलावा पीड़ित परिवारों के घरों में जाकर भी टीम ने वहां पर डेंगू के फैलने के कारण जाने और उसकी रोकथाम के लिए परिजनों को जागरूक किया। वहीं टीम ने डेंगू को मारने के लिए आवश्यक दवाइयों का छिड़काव भी किया। इस बीच जिला स्वास्थ अधिकारी ने घरों में उपचार ले रहे पीड़ितों द्वारा किए जा रहे उपचार एवं ली जा रही दवाइयों की जानकारी भी ली। कोट्स---

जिले में डेंगू की रोकथाम एवं पीड़ितों को उचित उपचार के लिए विभाग सक्रिय है। इसके लिए बकायदा जिला स्वास्थ अधिकारी के नेतृत्व में टीम काम कर रही है। डेंगू का प्रकोप बढ़ रहा है, लेकिन खतरा नहीं। इससे जिले में बनी स्थिति पूरी तरह से कंट्रोल में है। इलाज के उचित प्रबंध है और जांच के भी, लेकिन इसमें पीड़ित को लक्ष्ण दिखने पर जरा भी लापरवाही नहीं बरतनी है, तभी सुरक्षित रहा जा सकता है।

-डा. अशोक चौधरी, सीएमओ, कठुआ।

Edited By: Jagran