जम्मू, राज्य ब्यूरो। पूर्ववर्ती राज्य जम्मू कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक की तरफ से दो फाइलों के लिए रिश्वत की पेशकश संबंधी टिप्पणी किए जाने पर प्रदेश यूथ कांग्रेस ने मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कहा कि सरकार को ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।

कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए तवी पुल की तरफ बढ़ने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने रोक दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं व पुलिस के बीच धक्का मुक्की हो गई। प्रदेश यूथ कांग्रेस जम्मू कश्मीर के प्रधान उदय चिब ने आरोप लगाया कि पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बयान दिया है कि उनके राज्यपाल रहते हुए आरएसएस नेता व अंबानी की फाइल के लिए 150-150 करोड़ रुपये देने की बात एक अधिकारी ने कही थी।

चिब ने कहा कि पूर्व राज्यपाल इस समय भी एक अहम संवैधानिक पद पर विराजमान है और उनके बयान को नकारा नहीं जा सकता है। मोदी सरकार को मामले की जांच करवा कर सच्चाई सामने लानी चाहिए। उन लोगों के नाम सामने आने चाहिए। चिब ने कहा कि भाजपा सरकार भ्रष्ट लोगों को बचा रही है। विकास व सुशासन की बातें तो बहुत कही जा रही है लेकिन जमीनी सतह पर यह चीजें दिखाई नहीं दे रही है।

कश्मीर के हालात दिन प्रतिदिन खराब होते जा रहे है। साल 1990 जैसे हालात बन रहे हैं। सरकार लोगों की सुरक्षा को यकीनी बनाने में नाकाम रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि शाह लोगों का दिल जीतने का नाकाम रहे हैं। सरकार को उन लोगों के नाम सार्वजनिक करने चाहिए जिनका काला धन विदेश में जमा है। काला धन वापिस लाने के मोदी सरकार के दावे खोखले साबित हुए है। अगर भाजपा ने लोगों को गुमराह करना बंद नहीं किया तो लोग अगले विधानसभा चुनाव में सबक सिखाएंगे। प्रदर्शनकारियों में रिक्की दलोत्रा, साहिल सिंह लंगेह, दिव्यांश जम्वाल, हैपी रंधावा, अजु मन्हास, अंकुश शर्मा, सन्नी जट व अन्य शामिल थे। 

Edited By: Vikas Abrol