जागरण संवाददाता, जम्मू : शहर के बाहरी क्षेत्र कोट भलवाल में अवैध तरीके से कचरा निस्तारण के विरोध में लोगों ने सड़कों पर उतर का प्रदर्शन किया। उन्होंने सड़क जाम कर सरकार विरोधी नारेबाजी की।

मंगलवार को कंडी बेल्ट मूवमेंट के बैनर तले बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए और उन्होंने मुख्य मार्ग पर आकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। छोटे-बड़े, बुजुर्ग सब इस प्रदर्शन में शामिल हुए। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि नगर निगम सारे शहर की गंदगी को अब उनके गांव में फेंक कर प्रदूषण फैलाने लगा है। डिग्री कॉलेज के नजदीक महीने भर में ही कचरे के ढेर लग चुके हैं। पिछले एक माह से लोग बार-बार सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन सरकार परवाह ही नहीं कर रही। आम लोगों की छाती पर मूंग दलने के प्रयास किए जा रहे हैं। मूवमेंट के चेयरमैन केडी सिंह ने कहा कि भलवाल के कालागाम में जहां कचरा निस्तारण किया जाने लगा है, वह रिहायशी क्षेत्र है। यह पूरी तरह प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देशों की अवहेलना है। एडवोकेट असीम साहनी, नरेश सलगोत्रा, नरेश रैणा समेत बार एसोसिएशन जम्मू के सदस्य भी इस मुद्दे पर ग्रामीणों के साथ हैं।

उन्होंने कहा कि अभी तक प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी तक नहीं ली गई। यहां कचरा फेंकना पूरी तरह से अवैध है। लोगों के मौलिक अधिकारों का हनन हो रहा है। उन्होंने चेताया कि अगर लोगों के साथ अन्याय समाप्त नहीं किया गया तो वे जारी आंदोलन को और तेज करेंगे। उन्होंने कहा कि बहुत से पूर्व पंच-सरपंच, गणमान्य लोग इस संघर्ष से जुड़ चुके हैं। बिना किसी राजनीति के हम सब कचरा निस्तारण के विरोध में सड़कों पर हैं। नगर निगम को ग्रामीणों की सुननी ही होगी। इस जगह पर कचरा निस्तारण नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने अफसोस जताया कि अदालत को नगर निगम ने गलत सूचनाएं दी हैं। अब इसकी आड़ में रिहायशी क्षेत्र के बीच कचरा निस्तारण के प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। लोग अपने अधिकारों के लिए संघर्षरत हैं। इनका हनन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

इससे पहले भलवाल के सरपंच राज देव सिंह, कोट के सरपंच प्रभाकर सिंह की देखरेख में क्षेत्र में हस्ताक्षर अभियान चलाने के साथ नुक्कड़ बैठकें की गई। लोगों को जागरूक करते हुए एकजुट किया जा रहा है ताकि कचरा निस्तारण को रोका जा सके। इतना ही नहीं, इस संबंध में लोग अदालत में भी पहुंच गए हैं।

Posted By: Jagran