श्रीनगर/जम्मू, जेएनएन : कड़ाके की ठंड से थोड़ी राहत मिलने के बाद जम्मू कश्मीर में फिर मौसम बिगड़ने के आसार हैं। अगले पांच दिन तक राज्यभर में बारिश-बर्फबारी की संभावना है। वहीं जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग में रामबन जिले के पास बुधवार देर शाम पहाड़ों से गिरे मलबे के कारण वाहनों की आवाजाही बंद कर दी। इसके अलावा रेल व हवाई सेवा पर भी असर पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव छह जनवरी तक रहेगा।

कश्मीर के मैदानी इलाकों में मध्यम व जम्मू कश्मीर तथा लद्दाख के पहाड़ी क्षेत्रों में एक जनवरी दोपहर से और चार जनवरी तक मध्यम से भारी बर्फबारी की संभावना है। जम्मू की तरह श्रीनगर समेत कश्मीर के अधिकतर हिस्सों में हल्की धूप निकली। इससे लोगों ने ठंड से राहत की सांस ली। श्रीनगर में अधिकतम तापमान माइनस 4.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया। इसके पहले की रात को यहां का न्यूनतम तापमान माइनस 3.2 डिग्री सेल्सियस रहा था। जम्मू का अधिकतम तापमान 16.8 और न्यूनतम तापमान 2.6 डिग्री दर्ज किया।

गुलमर्ग का न्यूनतम तापमान माइनस 11.0 और पहलगाम का न्यूनतम तापमान माइनस 6.9 डिग्री रिकॉर्ड किया। लद्दाख के लेह का न्यूनतम पारा माइनस 13.7 डिग्री रहा है। द्रास के न्यूनतम पारे में कुछ सुधार हुआ है। यह एक दिन पहले माइनस 22.6 के मुकाबले मंगलवार-बुधवार की रात को माइनस 17 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। देर शाम जम्मू श्रीनगर में रामबन के पास भूस्खलन होने से किसी वाहन को न तो श्रीनगर से आने दिया न जम्मू से जाने दिया। चंद्रकोट व डिगडोल क्षेत्र में पहाड़ों से मलबा सड़क पर आ गिरा। इसके बाद तुरंत राजमार्ग को बंद कर दिया। राजमार्ग में हजारों वाहन जगह-जगह फंस गए हैं। राज्य प्रशासन ने आज वीरवार को बारिश-बर्फबारी की संभावना के चलते अलर्ट कर दिया है। एक फ्लाइट रद रही जम्मू एयरपोर्ट आने वाली एक फ्लाइट रद रही।

कुछ फ्लाइट तय समय से कई घटे की देरी से उड़ान भरी। पिछले दो दिनों की तुलना में बुधवार को अधिकाश विमानों की आवाजाही सुचारु रही। जम्मू एयरपोर्ट पर आने वाली स्पाइस जेट की फ्लाइट ग्वालियर-जम्मू-ग्वालियर रद रही। यात्रियों को दिक्कतों से जूझना पड़ा। 31 तक चलेगा चिल्ले कलां कश्मीर में भीषण ठंड की 40 दिन की अवधि 21 दिसंबर से शुरू हो चुकी है, जिसे चिल्ले कला कहा जाता है। यह 31 जनवरी तक चलेगी। 'चिल्ले कला' समाप्त होने के बाद अगले 20 दिन अपेक्षाकृत कम ठंड पड़ती है जिसे 'चिल्ले खुर्द' कहा जाता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस