जम्मू, जागरण संवाददाता। ऊधमपुर जाने वाली बस का इंतजार कर रहे कुछ यात्री गुफ्तगू कर रहे थे। कुछ अपने परिवार तो कुछ बच्चों के भविष्य तो उनमें कुछ ऐसे भी थे चुनावी गपशप में व्यस्त थे। इनमें से एक बोला हमें प्रत्याशी से क्या लेना? जो देश के लिए काम करेगा उसे ही वोट देंगे तो दूसरे ने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियां व कुछ निर्दलीय उम्मीदवार भी अच्छा काम कर रहे हैं। उन्हें मौका मिलना चाहिए। बस में सवार होते ही टिकरी के केवल कृष्ण शर्मा से पूछा कि इस बार आपके क्षेत्र में किसका जोर है। कौन सी पार्टी को मतदाता वोट देंगे? इतना कहते ही वह खिले मन से बोले वोट देने के बारे में सोचना कैसा? वोट तो सिर्फ मोदी को ही देना है। एक मोदी ही तो है जिसने देश की शान बढ़ाई है। देखा अब कैसे अमेरिका और रूस के सामने भारत के प्रधानमंत्री मोदी की कितनी हैसियत है। साथ ही सीट पर बैठी सुषमा देवी बोली कि हम तो वोट जम्मू के राजाओं के वंशज विक्रमादित्य को देंगे।

बस इतना कहने की ही देर थी कि गढ़ी ऊधमपुर की प्रीति जो दिखने में व्यस्क नहीं थी, बोल पड़ी कि हम क्यों किसी के कहने पर वोट दें। हम तो उसे ही वोट देंगे जो देश के विकास के लिए काम करे। उनसे पहले भी कई नेता आए लेकिन किसी ने भी हिम्मत नहीं दिखाई। जब मैंने प्रीति से पूछा कि क्या आपका वोट बन चुका है। तो इस पर वह बोली कि क्या हुआ अभी वोट डालने में उन्हें चार वर्ष का समय लगेगा, लेकिन उन्हें अच्छे-बुरे की पहचान है।

बस की पीछे की सीट पर बैठे राजेश पाबा जो ऊधमपुर के हैं, ने कहा कि इस बार तो भाजपा को आगे आने से कोई नहीं रोक सकता। मतदाता बड़े चालाक हैं। हमारी बस 2.30 बजे जगटी के करीब पहुंची। यहीं पर उतरकर जम्मू आने वाली तीन बजे वाली बस पकड़ी। दो युवा चुनाव पर बहस कर रहे थे। जम्मू के किशोर कह रहे थे कि इस बार फिर मोदी को आगे बढऩे से कोई नहीं रोक सकता है। देश को पहले रखते हुए मैं ही नहीं उनके परिचित मोदी के पक्ष में वोट देंगे। सेवा राम ने कहा कि हमें तो किसी भी पार्टी ने आज तक कुछ नहीं दिया। सभी राजनीतिक पार्टियों के नेता स्वार्थी हैं। ये सिर्फ चुनाव के दिनों में ही दिखते हैं। बाद में उनकी सुनने के लिए कोई भी नहीं आता है। 

Posted By: Rahul Sharma