जागरण संवाददाता, जम्मू : जलशक्ति विभाग के अस्थायी कर्मियों की हड़ताल के दूसरे दिन शहर में कई जगह पेयजल की समस्या और बढ़ गई। कई इलाकों में पानी नहीं आया, जिससे लोग परेशान रहे। हालांकि विभाग ने स्थायी कर्मियों की ड्यूटी लगाकर आपूर्ति को सामान्य बनाने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन अधिकतर क्षेत्रों में किल्लत रही। उधर, कर्मियों ने हड़ताल 24 घंटे और बढ़ा दी है। इससे शनिवार को भी जलापूर्ति प्रभावित रहेगी।

हड़ताल के कारण शहर के नरवाल, ट्रांसपोर्ट नगर, ब¨ठडी, डिग्याना का कुछ भाग, सतवारी, त्रिकूटा नगर एक्सटेंशन, रूपनगर, भलवाल, जानीपुरा के कुछ भाग, बाहु क्षेत्र, राजीव नगर के लोगों को परेशान होना पड़ा। कड़ी मशक्कत से पानी का बंदोबस्त करना पड़ा। बाहु क्षेत्र के प्रेस मोड़, छपड़ी मोहल्ला, सेंट्रल मोहल्लों में दूसरे दिन भी पानी नही आया। पानी के लिए लोगों को पीएचई के ट्यूबवेल पर जाना पड़ा। स्थानीय निवासी प्रीतम चंद का कहना है कि दैनिक वेतन भोगियों की हड़ताल का खमियाजा आम लोग भुगत रहे है। पानी के बिना खाना बनाना, कपड़े धोने की समस्या पैदा हो गई है। नरवाल व ट्रांसपोर्ट नगर क्षेत्रों के लोगों को भी जलशक्ति विभाग की फटी पाइप वाले क्षेत्रों का रुख करना पड़ा। लोगों का कहना है कि सरकार हड़ताल खत्म कराए और पानी की आपूर्ति को सामान्य बनाए। यहां के निवासी अशोक कुमार ने बताया कि वैसे भी क्षेत्र में पानी की अक्सर किल्लत रहती है। सरकार को यहां पर पेयजल की आपूर्ति सामान्य बनाने के लिए सोचना होगा। सतवारी नरवाल में जिन लोगों घरों में पानी की अंडर ग्राउंड टंकिया हैं या जिन्होंने हैंडपंप लगाए हुए हैं, उनके यहां से पानी लेकर लोग गुजारा कर रहे हैं। गलियों में लंबी रबड़ की पाइपें बिछाकर पानी का जुगाड़ किया जा रहा है। सुदेश कुमार ने बताया कि देर रात तक पानी के लिए लोग संघर्ष करते रहते हैं।

नरवाल ट्रांसपोर्ट क्षेत्र में पानी के लिए प्रदर्शन

ट्रांसपोर्ट नगर के साथ लगने वाले गांवों में पानी नहीं आने से परेशान लोगों ने नरवाल चौक पर प्रदर्शन किया।लोगों ने कहा कि कई दिन से उनके गांवों में पानी नहीं आ रहा। पिछले दो दिन से तो बुरा हाल है। लोगों ने सड़क किनारे जबरदस्त प्रदर्शन किया और कहा कि अगर जल्दी ही मसला सुलझाया नहीं गया तो आंदोलन और तेज होगा। मौके पर लियाकत अली ने कहा कि आसपास न ही कोई कुआं है और न ही प्राकृतिक जल स्त्रोत। सरकार ने जो घर-घर नल पहुंचा रखे हैं, उसमें पानी नहीं आता। ऐसे में लोगों को परेशानी हो रही है। न ही पीने का पानी मिल रहा है और न ही घर के दूसरे काम करने के लिए पानी उपलब्ध है। उन्होंने प्रशासन से कहा कि वे लोगों की परेशानियों को समझें और उसका निदान करे।

सरकार के रवैये से नाराज हैं अस्थायी कर्मचारी 

पीएचई इंप्लाइज यूनाइटेड फ्रंट की बैठक में हड़ताल 24 घंटे बढ़ाने का निर्णय लिया गया। हडताल की मियाद शुक्रवार रात 8 बजे खत्म हो गई। सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिलने पर इसे शनिवार रात 8 बजे तक जारी रहेगी। कर्मचारी नेता रवि हंस ने बताया कि हम सरकार से यही कह रहे हैं कि अस्थायी कर्मचारियों को नियमित करने की कम से कम नीति तो बनाए। मगर सरकार हमारी बात नहीं सुन रही। जम्मू संभाग में 22000 अस्थायी कर्मचारी जलशक्ति विभाग में काम कर रहे हैं। इसमें से अधिकांश ऐसे कर्मी हैं जिनकी सेवाएं 20 साल के करीब हो चुकी हैं। इन कर्मियों के साथ सरकार खिलवाड़ करना बंद करें। इसलिए हम अब धीरे धीरे बड़े आंदोलन की ओर बढ़ रहे हैं। जब तक सरकार हमारी मांगों को नहीं मानती, हम हड़ताल बढ़ाते जाएंगे।