बिश्नाह। जम्मू कश्मीर में जब भी चुनाव होते हैं तो सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को एक ही मांग रहती है कि रोज-रोज पाकिस्तान गोलाबारी से होने वाले नुकसान की भरपाई की जाए। उनका कहना है कि अगर बात से समस्या हल होती है तो पाक से की जाए या फिर उसभाषा में जवाब दिया जाए। ताकि सीमावर्ती क्षेत्र के लोग चैन से जिंदगी गुजार सके। चुनाव के दौरान नेता लोग आश्वासन और वादे तो बहुत करते हैं,लेकिन उसके बाद बॉर्डर के लोगों की सुध लेना भी उचित नहीं समझते हैं। यही वजह है कि बॉर्डर पर बसे ग्रामीणों की उम्मीदें पूरी होने से पहले ही दम तोड़ देती हैं। सीमावर्ती क्षेत्र के गांव रेहाल के लोगों का कहना है कि सीमावर्ती गांव रेहाल जो दो पंचायतों में बंटा हुआ है। यह विधान सभा का सबसे बड़ा गांव है। एक रेहाल दमालियां व दूसरा रेहान कलांदरियां है।

  • पाक बमबारी का प्रभाव बच्चों के दिलो-दिमाग में छाया हुआ है। सच कहें तो कई लोग दिमागी तौर पर परेशान हो चुके हैं। सरकार को सख्त फैसला लेना होगा। - सुभाष चंद्र
  • सीमांत क्षेत्र में ऐसा कोई गांव नहीं जहां पर गोलाबारी से कोई नुकसान न हुआ है। कई बार हम नुकसान ङोल चुके हैं। सरकार ऐसी योजा बनाए जिससे लोग सुख चैन से रह सकें। - मुकेश कुमार
  • पाक की हरकतों से हम बड़े दुखी हैं। हर बार हम मतदान करते हैं और सोचते हैं कि इस बार कुछ न कुछ होगा, लेकिन सत्ता में आते ही पार्टियां सबकुछ भूल जाती हैं। केंद्र में सख्त सरकार आनी चाहिए। - रघुनंदन शर्मा
  • हमें पाक गोलाबारी शुरू होने पर घर छोड़ कर जाना पड़ता है तो हमारे बच्चों की शिक्षा प्रभावित होती है, स्कूल बंद रहते हैं। परीक्षाएं होती हैं उसका परिणाम आता है तो हमारे बच्चे मेरिट में पिछड़ जाते हैं। - सुरेश कुमार
  • नौकरी के लिए रखे गए मापदंडों पर हमारे बच्चे सही नहीं उतर पाते, क्योंकि बॉर्डर के बच्चों के लिए कंपटीशन मुश्किल हो जाता है। हम चाहते हैं कि जो भी सरकार आए वह पाकिस्तान को नामो निशान मिटा दे। - तिलक राज
  • चुनावों में बॉर्डर के लोगों की रक्षा सुरक्षा और नुकसान की भरपाई भी हर राजनीतिक पार्टी अपने एजेंडे में रखे, क्योंकि हम बिना वर्दी के सिपाही निहत्थे ही दुश्मन के हमलों को नाकाम बनाते हैं। - राजकुमार
  • सीमा पार से रोज रोज की गोलाबारी से सीमावर्ती लोग दुखी हो चुके हैं। हिम्मत जुटाकर जब अपने क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत करते हैं तो पाकिस्तान कुछ दिनों के बाद फिर हमला कर देता है। - दीवान चंद
  • पाकिस्तान सीमावर्ती क्षेत्र के रिहायशी इलाकों पर भारी गोलाबारी करके भारी क्षति पहुंचाता है। अब सरकार एक ही बार पा को करारा जवाब दे। - तीर्थ राम, सरपंच रेहाल
  • हम चाहते हैं कि ऐसी सरकार केंद्र में बने जो पाक को सीधा जवाब दे, ताकि वह दोबारा सिर उठाने की हिम्मत न कर सके। या फिर दोनों मुल्क बातचीत कर मुद्दा हल करें। जिससे सीमाएं शांत रहें। - दर्शन लाल, पंच
  • हमारे यहां जब कोई विवाह समारोह होता है या कोई और कार्यक्रम। यही चिंता सताती रहती है कि कही पाक गोलाबारी न शुरू कर दे, जिसमें हमारे यहां आए हुएमेहमानों को नुकसान न हो। - अशोक कुमार
  • हम लोग न खेतों में जा सकते हैं न कहीं बाहर जाते हैं। उन्हें हर समय यह डर बना रहता है कि कहीं पाकिस्तान गोलाबारी ना कर दे। अगर ऐसा होता तो हम लोग अपने घर मवेशी छोड़ कर बाहर जाते है। - रमेश खजूरिया
  • पाक अपनी काली करतूतों से बाज नहीं आता। इसलिए हमारी यही सोच है कि ऐसा नुमाइंदा चाहिए जो एक बार इनका स्थायी हल निकाले, ताकि लोगों को रोजगार छोड़कर दूर न जाना पड़े और दरबदर न होना पड़े। - रोहिनी 

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma