मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जम्मू, जागरण संवाददाता। शहर की सड़कों पर ट्रैफिक व्यवस्था इतनी ज्यादा बिगड़ चुकी है कि पांच मिनट का सफर पूरा करने में घंटा लग जाए। शहर की कोई सड़क या इलाका ऐसा नहीं है जहां ट्रैफिक समस्या न हो। यह समस्या दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है।

जम्मू शहर में पिछले कुछ वर्ष में गाडिय़ों की संख्या हजारों से बढ़कर लाखों में पहुंच गई है। इसके मुकाबले सड़कों का उतना विकास नहीं हो पाया। शहर में पिछले कुछ वर्ष से बीसी रोड और बिक्रम चौक फ्लाईओवर को छोड़ दिया जाए तो सड़कों की स्थिति जस की तस है। ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर सबसे ज्यादा परेशानी सुबह और शाम को होती है। इस दौरान लोगों का अपने काम पर आने-जाने का समय होता है। इस दौरान लोग अपनी गाडिय़ों, दोपहिया वाहनों को लेकर निकलते हैं और इस दौरान ही ट्रैफिक पुलिस नाकों को लगाकर अपने चालान काटने के कोटे को पूरा करने में जुट जाती है।

इस दौरान ट्रैफिक पुलिस को यातायात व्यवस्था सुधारने का काम करना चाहिए, उस समय वह चालान काटने में व्यस्त हो जाती है। इस कारण सड़कों पर जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। शहर के अखनूर रोड, डोगरा चौक, गुम्मट रोड, इंदिरा चौक आदि कई ऐसे इलाके हैं जहां सुबह और शाम के वक्त ट्रैफिक व्यवस्था गड़बड़ा जाती है।

डीटीआइ को 60, एसओ को 40 चालान का कोटा: ट्रैफिक पुलिस में तैनात डिस्ट्रिक्ट ट्रैफिक इंस्पेक्टर को दिन में 60 और सेक्शन ऑफिसर को 40 चालान काटने का कोटा मिला है। इस संदर्भ में आदेश जारी कर विभाग ने अधिकारियों को लक्ष्य पूरा करने को कहा है। ट्रैफिक पुलिस में तैनात एक कर्मी ने बताया कि इस लक्ष्य को पूरा करना जरूरी है। अगर ऐसा न हो तो उनको जवाब देना मुश्किल हो जाता है।

सौ मिनी बसों से स्टीरियो निकालकर तोड़ा

यात्री वाहन विशेष कर मिनीबसों में स्टीरियो लगा कर अश्लीलता फैलाने वाले चालकों के विरुद्ध ट्रैफिक पुलिस ने वीरवार को शहर में विशेष नाके लगाकर कार्रवाई की। ट्रैफिक पुलिस का दावा है कि दिनभर में मिनीबसों में लगे सौ स्टीरियो सिस्टम को उतारकर तोड़ दिया गया। मिनीबसों में सवार यात्रियों ने ट्रैफिक पुलिस की इस कार्रवाई की सराहना की। यात्रियों का कहना है कि ट्रैफिक पुलिस इस अभियान को मात्र एक ही दिन तक न चला कर उसे रोजाना का अभियान बनाए ताकि नियमों का उल्लंघन करने वाले चालकों पर अंकुश लगे। शहर के डोगरा चौक में ट्रैफिक पुलिस के नाके की कमान डीएसपी ट्रैफिक सन्नी गुप्ता ने संभाली। इस दौरान चालकों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक किया। नियमों का उल्लंघन करने वाले चालकों के चालान भी काटे। कई चालकों ने पुलिस को गच्चा देने के लिए सीट के नीचे स्पीकर लगा रखे थे। अक्सर पुलिस को महिला यात्री शिकायत करती हैं कि मिनीबस चालक ऊंची आवाज में अश्लील गाने बजाते हैं।

जाम से निजात के लिए पूरा करो रिंग रोड का काम

अंबफला मांडा से जानीपुर हाईकोर्ट रोड, रूपनगर व बनतालाब से होते हुए अखनूर तक रिंग रोड बनाए जाने व मेट्रो चलाए जाने की मांग को लेकर वीरवार को जम्मू वेस्ट असेंबली मूवमेंट के सदस्यों ने न्यू प्लॉट में प्रदर्शन किया। मूवमेंट का कहना था कि अगर प्रशासन वास्तव में जम्मू शहर को ट्रैफिक समस्या से निजात दिलाना चाहता है तो रिंग रोड व मेट्रो के अलावा कोई विकल्प नहीं है। जम्मू वेस्ट असेंबली मूवमेंट के प्रधान सुनील डिम्पल ने प्रदर्शन की अगुआई करते हुए कहा कि शहर में ट्रैफिक का दबाव कम करने के लिए रिंग रोड का निर्माण व मेट्रो शुरू करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

अंबफला-जानीपुर मार्ग पर बढ़ती ट्रैफिक के बीच सड़क विस्तारीकरण के मुद्दे पर डिम्पल ने कहा कि सरकार का मौजूदा सड़क को बीस फुट चौड़ा करने का प्रस्ताव क्षेत्र के दुकानदारों को मंजूर नहीं क्योंकि इससे हजारों लोगों की रोजी-रोटी छिन जाएगी। क्षेत्रीय दुकानदार किसी भी कीमत पर अपनी दुकानें टूटने नहीं देंगे। ऐसे में बेहतर है कि सरकार इस क्षेत्र में बढ़ती ट्रैफिक से निपटने के लिए रिंग रोड का निर्माण करें और मेट्रो ट्रेन चलाए।

राज्य विधानसभा में इस रिंग रोड निर्माण का प्रस्ताव पारित हो चुका है लेकिन भाजपा ने सत्ता में आने के बाद इस ओर ध्यान नहीं दिया। अब पीडब्ल्यूडी ने अंबफला से जानीपुर, रूपनगर व बनतालाब तक सड़क को दोनों तरफ से बीस-बीस फुट चौड़ा करने का प्रस्ताव वित्तीय मंजूरी के लिए वित्त सचिव के पास भेजा है। यह प्रस्ताव क्षेत्रीय लोगों को मंजूर नहीं। इससे 50 सालों से बसे दुकानदार व लोग दरबदर हो जाएंगे। कईयों के मकान टूट जाएंगे तो हजारों की रोजी-रोटी छिन जाएगी। सरकार का यह प्रस्ताव किसी भी सूरत में पूरा नहीं होने दिया जाएगा। राज्यपाल सत्यपाल मलिक से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील करते हुए डिम्पल ने कहा कि राज्यपाल स्वयं इस मामले में हस्तक्षेप करें और क्षेत्रीय लोगों को राहत प्रदान करते हुए रिंग रोड व मेट्रो चलाने के प्रस्ताव पर काम शुरू कराए।

डिम्पल ने इसके अलावा ज्यूल से रिहाड़ी तक फ्लाई ओवर निर्माण की मांग भी उठाई। प्रदर्शन के दौरान शाम सरूप, जगदीश राज गुप्ता, मंजीत आनंद, सीता राम, सुभाष डोगरा, पवन कुमार, सुभाष गुप्ता, गुलशन गुप्ता, राजेश गुप्ता, रमेश चन्द्र, शाम सरूप गुप्ता, चमन पवार, दलीप कुमार, राजीव कुमार व अन्य मौजूद रहे।

  • ट्रैफिक पुलिस के लिए यातायात को सुचारु बनाए रखना प्राथमिकता है। ट्रैफिक कर्मी यातायात को सुचारु करने में लगे रहते हैं। चालान उन्हीं लोगों के काटे जाते हैं जो नियमों का पालन नहीं करते। सुबह-शाम ज्यादा यातायात होने के कारण जाम लग जाता है और उस दौरान हमारे जवान ज्यादा मुस्तैद रहते हैं। -जोगिंद्र सिंह, एसएसपी, ट्रैफिक 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप