राज्य ब्यूरो श्रीनगर। अनलॉक-2 में राहत और व्यावसायिक गतिविधियों की बहाली की प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए जम्मू कश्मीर प्रशासन ने सभी पर्यटन स्थलों को जल्द खोलने का फैसला किया है। इसके लिए जल्द आवश्यक निर्देश भी जारी कर दिए जाएंगे। उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने सोमवार को इस संदर्भ में संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी किए हैं।

केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन के प्रवक्ता और ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने बताया कि सोमवार को उपराज्यपाल जीसी मुर्मू की अध्यक्षता में नागरिक सचिवालय में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई। इसमें पर्यटन उद्योग से जुड़े लोगों को पेश आ रही दिक्कतों पर गहन विचार विमर्श किया गया। बैठक के दौरान उपराज्यपाल ने पर्यटन क्षेत्र को चरणबद्ध तरीके से बहाल करने पर सहमति जताई।

उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर की अर्थव्यवस्था में पर्यटन जगत का बहुत योगदान है। हमें इसे फिर से बहाल करना चाहिए। उन्होंने बैठक में मौजूद अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह संबंधित क्षेत्र के लोगों और विशेषज्ञों से बैठक कर एक एसओपी को तय करें।रोहित कंसल के अनुसार, बैठक में उपराज्यपाल को बताया गया कि बीते कुछ दिनों के दौरान पर्यटन विभाग के अधिकारियों के अलावा नागरिक प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों और उपराज्यपाल के सलाहकार बसीर अहमद खान से भी पर्यटन जगत से जुड़े लोग मिल चुके हैं। इन लोगों ने पर्यटन क्षेत्र को बहाल करने के लिए प्रशासन द्वारा जारी नियमों के अनुपालन का पूरा यकीन दिलाया है।

उन्होंने बताया कि बैठक में उपराज्यपाल ने पर्यटन क्षेत्र से जुड़ी उन गतिविधियों का भी जिक्र किया, जिन्हें शुरुआती दौर में बहाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पर्यटन क्षेत्र में कोविड-19 को संक्रमण रोकने की कार्ययोजना को लागू करने पर तेजी से काम होना चाहिए।पर्यटन निदेशक कश्मीर निसार अहमद वानी ने कहा कि लाकडाउन के कारण पर्यटन क्षेत्र को बहुत नुकसान पहुंचा है। यह मौसम तो बीच चुका है। अब हमें दिवाली और सर्दियों को लेकर बहुत उम्मीदें हैं। हम उन्हें ध्यान में रखते हुए ही पर्यटकों को आकíषत करने की योजना पर काम कर रहे हैं। आज उपराज्यपाल ने भी पर्यटन क्षेत्र को बहाल करने के लिए एक रोडमैप की बात की है। हमने संबंधित लोगों से भी सुझाव मांगे हैं और अगले एक दो दिन में पूरा रोडमैप जारी कर दिया जाएगा। अगर सब कुछ ठीक रहा तो अगले 10 दिनों में कुछ पर्यटन स्थलों को खोल दिया जाएगा। डल झील व श्रीनगर के अलावा सोनमर्ग, पहलगाम को भी खोला जा सकता है।

पर्यटक स्थलों पर लोगो को जमा न होने दें :

इस बीच, मंडलायुक्त कश्मीर पांडुरंग के पोले ने वादी में विभिन्न पर्यटनस्थलों पर जमा हो रही स्थानीय लोगों की भीड़ और कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों का संज्ञान लिया। उन्होंने सभी पर्यटन विकास प्राधिकरणों को निर्देश दिया है कि वह पर्यटकों को रोकें। उन्होंने कहा कि हमने देखा है कि बीते कुछ दिनों के दौरान गुलमर्ग, सोनमर्ग, पहलगाम, दुधपथरी समेत विभिन्न पर्यटन स्थलों पर स्थानीय लोगों की भीड़ बढ़ रही है। हालंकि इन इलाकों को पर्यटकों के लिए पूरी तरह बंद रखा गया है। किसी को वहां जमा होने की अनुमति नहीं है। इसके बावजूद लोग आ रह हैं और वह किसी भी तरह से कोरोना के संक्रमण को बचने के लिए परहेज नहीं कर रहे हैं। शारीरिक दूरी के सिद्धांत का भी पालन नहीं कर रहे हैं, मास्क भी नहीं लगा रह हैं।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप