जम्मू, जेएनएन। जम्मू-कश्मीर में सोमवार को हुर्रियत काफ्रेंस द्वारा केंद्र को भेजी गई बातचीत की पेशकश चर्चा का विषय रही। फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती सहित अन्य राजनीतिक दलों ने इसका स्वागत करते हुए कहा कि कश्मीर में अब शांति बहाल होने में देर नहीं लगेगी। वहीं भाजपा राष्ट्रीय उपप्रधान अविनाश राय खन्ना ने भी बयान दिया कि केंद्र बातचीत को तैयार है परंतु कश्मीर पर बात संविधान के दायरे में रहकर ही की जाएगी। इसके अलावा श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने श्रद्धालुओं की सुरक्षा को यकीनी बनाने के लिए स्वयं की आपदा प्रबंधन फोर्स बनाई है। यह फोर्स सितंबर तक तैयार हो जाएगी। देश का अति संवेदनशील रेलवे स्टेशन माने जाने वाले जम्मू रेलवे स्टेशन में पुलिस ने मॉक ड्रिल कर सुरक्षा प्रबंधों को जांचा। वहीं प्रतिदिन की बिक्री जांचने के लिए दुकानों पर पहुंचे स्टेट टेक्सेस विभाग के कर्मचारियों व अधिकारियों को दुकानदारों के विरोध का सामना करना पड़ा।

भारतीय संविधान के दायरे में होगी हुर्रिरयत से कश्मीर पर बातचीत

भाजपा के राष्ट्रीय उपप्रधान और जम्मू-कश्मीर मामलों के प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने हुर्रियत कांफ्रेंस द्वारा केंद्र से बातचीत करने की पहल का स्वागत करते हुए कहा कि हम बातचीत के लिए हमेशा तैयार हैं। हुर्रियत नेता हमारे ही लोग हैं। वे भी जम्मू-कश्मीर के निवासी हैं। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी बातचीत के लिए उनका स्वागत करेंगे लेकिन यह बातचीत भारतीय संविधान के दायरे में ही की जाएगी। खन्ना ने यह बात श्रीनगर में पार्टी समारोह के दौरान पत्रकारों से कही।

श्रीमाता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने बनाई अपना फोर्स

श्री माता वैष्णो देवी यात्रा पर हर साल देश के कोने-कोने से लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। ऐसे में अगर किसी किस्म की आपदा आती है तो बोर्ड के स्टाफ के सदस्य सबसे पहले श्रद्धालुओं की मदद के लिए आगे आएंगे। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड आपदा प्रबंधन के लिए अपनी फोर्स तैयार कर रहा है। यह फोर्स सितंबर तक तैनात कर दी जाएगी। श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सिमरनदीप सिंह ने बताया कि 25 स्टाफ सदस्यों का ट्रेनिंग कार्यक्रम 18 मई को शुरू किया गया था। ट्रेनिंग समाप्त होने ही वाली है। हमारी योजना है कि सितंबर तक 180 कर्मचारियों को ट्रेनिंग दे दी जाए।

जम्मू रेलवे स्टेशन पर हुई मॉक ड्रिल

अमरनाथ यात्रा के शुरू होने से पहले सुरक्षा व्यवस्था को जांचने के लिए रेलवे पुलिस ने मॉक ड्रिल की। जम्मू रेलवे स्टेशन पर यात्रा के दौरान लोगों की आवाजाही दोगुनी हो जाएगी। ऐसे में यहां पर हर समय सुरक्षा बनाए रखना सुरक्षाकर्मियों के लिए चुनौतीपूर्ण रहेगा। मॉक ड्रिल में रेलवे पुलिस ने खोजी कुत्तों की मदद से यात्रियों के सामान की जांच की। इसके अलावा स्टेशन में खड़ी गाड़ियों की बोगियों की भी जांच हुई। उधर अचानक स्टेशन पर भारी पुलिस बल को देखकर वहां मौजूद यात्री कुछ देर के लिए घबरा गए। पुलिस ने जैसे ही मौके पर पहुंच यात्रियों के सामान की जांच की तो थोड़ी देर के लिए वहां पर स्थिति तनावपूर्ण बन गई। जब यात्रियों को पता चला कि पुलिस सुरक्षा जांच के लिए मॉक ड्रिल चला रही है तो उन्होंने राहत की सांस ली।

टेक्सेस विभाग के खिलाफ दुकानदारों का प्रदर्शन

शहर के दुकानदार सोमवार को स्टेट टेक्सेस विभाग के विरोध में सड़कों पर उतर आए। टेक्सेस विभाग की टीम सुबह जब शहर की प्रमुख दुकानों की प्रतिदिन की बिक्री जांचने के लिए बाजार में पहुंची तो यह विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। दरअसल टीम के कर्मियों को कुछ दुकानों पर बैठना था और वहां दिनभर में होने वाली खरीदी पर नजर रखनी थी। विभाग का आरोप है कि दुकानदार दुकानों पर बिक्री अधिक करते हैं परंतु विभाग के समक्ष कम दिखाते हैं। ऐसा कर वह टैक्स चोरी कर रहे हैं। चैंबर आफ ट्रेडर्स फेडरेशन(सीटीएफ) जम्मू ने विभाग की इस कार्रवाई को प्रताड़ना बताते हुए प्रशासन से इस पर तुरंत रोक लगाने की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि जम्मू-कश्मीर में अमरनाथ यात्रा शुरू होने जा रही है और इस तरह की कार्रवाई कर जम्मू के शांत माहौल को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप