श्रीनगर, राज्य ब्यूरो: शोपियां में गत वीरवार से जारी मुठभेड़ पिछले 16 घंटों से लगातार जारी है। अब तक सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है जबकि अंसार गजवात-उल हिंद (एजीएच) के स्वयंभू कमांडर इम्तियाज मीर अपने एक साथी के साथ मस्जिद जान मुहल्ला में जा छिपा है। मस्जिद को नुकसान न हो इसीलिए सुरक्षाबलों ने आतंकियों के बाहर आने तक अभियान को टाल दिया है। हालांकि आज शुक्रवार तड़के सुरक्षाबलों ने दानों आतंकियों को मनाने के लिए मस्जिद के इमाम और आतंकी के भाइयों को बातचीत के लिए भी भेजा था परंतु दोनों ने ही इस प्रस्ताव को मानने से इंकार कर दिया। इससे पहले मुठभेड़ में तीन जवान भी घायल हो गए थे।

इस बीच, प्रशासन ने एहतियात के तौर पर शोपियां व पुलवामा में इंटरनेट मोबाइल सेवा को बंद कर दिया है। एजीएच को जम्मू कश्मीर में अल-कायदा का संगठन माना जाता है। कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक (आइजीपी) विजय कुमार और सेना की विक्टर फोर्स के जीओसी मेजर जनरल राशिम बाली अभियान की निगरानी कर रहे हैं। मुठभेड़स्थल के पास जामिया मस्जिद है और सुरक्षाबल पूरा प्रयास कर रहे हैं कि मस्जिद को कोई नुकसान न पहुंचे।

खुफिया सूचना के आधार पर वीरवार दोपहर करीब 12 बजे पुलिस ने सेना की 44 आरआर और सीआरपीएफ के जवानों के साथ मिलकर शोपियां के जान मोहल्ले का घेरा कसना शुरू किया। यह घनी आबादी वाला इलाका है। दोपहर बाद करीब तीन बजे घेरा कसता देख एक मकान में छिपे आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

जवानों ने आसपास के मकानों से लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया और आतंकियों को आत्मसमर्पण करने को कहा। इसके बावजूद आतंकी फायङ्क्षरग करते रहे।

शाम छह बजे एक आतंकी मारा गया। उसका शव उठाने के प्रयास में एक सैन्यकर्मी गोली लगने से जख्मी हो गया। इसके बाद फिर मुठभेड़ शुरू हो गई और आठ बजे तक दो और आतंकियों को ढेर कर दिया गया। इसके बाद एजीएच का कमांडर इम्तियाज मीर एक साथी सहित जान बचाने के लिए मस्जिद में जा छिपा।

---

तीन आतंकी मारे गए हैं। उनकी पहचान अभी नहीं हो पाई है। दो आतंकी अभी घेराबंदी में फंसे हैं। इनमें से एक एजीएच का कमांडर हो सकता है। किसी भी प्रकार की नागरिक क्षति न हो, इसलिए पूरी सावधानी बरती जा रही है। - विजय कुमार, आइजीपी कश्मीर

शोपियां में मारे गए आतंकियों में बुरहान का ममेरा भाई भी: दक्षिण कश्मीर के शोपियां में वीरवार को हुई मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकियों की पहचान अभी पुलिस ने नहीं की है, लेकिन सूत्रों के अनुसार इनमें इश्तियाक, जाहिद कोका और काशिफ मीर शामिल हैं। जाहिद कोका का भाई बुरहान कोका भी एजीएच का कमांडर रह चुका है और वह पिछले साल मारा गया था। काशिफ मीर बीते माह ही आतंकी बना है। वह हिजबुल मुजाहिदीन के पोस्टर ब्वाय रह चुके आतंकी बुरहान का ममेरा भाई है। काशिफ के दो बड़े भाई भी आतंकी थे। इनमें से एक आदिल ने ही दक्षिण कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन का नेटवर्क मजबूत बनाया था। उसने ही जाकिर मूसा और बुरहान वानी को तैयार किया था।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021