कटड़ा, संवाद सहयोगी : मौसम के उतार-चढ़ाव के बीच वैष्णो माता के श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर है। तीर-चार दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश और ठंडी हवा के झोकों के बीच देश भर से श्रद्धालु दर्शन करने पहुंच रहे हैं। दूसरी तरफ खराब मौसम की वजह से कटड़ा-सांझी छत के बीच हेलीकाप्टर सेवा लगातार प्रभावित हो रही थी। तेज बारिश के दौरान माता दरबार से भैरो घाटी के बीच चलने वाली केवल कार सुविधा भी बाधित होती रही। वहीं श्राद्ध शुरू होने के कारण यात्रा में आंशिक गिरावट दर्ज की गई है। प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में तीन से पांच हजार तक की गिरावट आई है।

शुक्रवार को मौसम में सुधार हुआ। सुबह श्रद्धालुओं को करीब दो से तीन घंटे हेलीकॉप्टर सेवा मिली। उसके उपरांत आसमान और त्रिकूट पर्वत पर घने बादलों का जमघट लग गया। इसके चलते दिनभर बीच-बीच में हेलीकॉप्टर सेवा प्रभावित हुई। परंतु अधिकांश समय सेवा उपलब्ध रही। दूसरी ओर श्रद्धालुओं को सभी तरह की सुविधाएं लगातार वैष्णो देवी यात्रा के दौरान उपलब्ध हो रही हैं। बैटरी कर सेवा, पैसेंजर केबल कार सेवा आदि प्रमुख हैं। वहीं दिन के समय श्रद्धालुओं को तीखी धूप का सामना करना पड़ा, जिसके चलते श्रद्धालु पसीने से तरबतर होते रहे पर शाम ढलते ही ठंडी हवाओं के बीच श्रद्धालु निरंतर भवन की ओर रवाना होते रहे।

वैष्णो देवी यात्रा के दौरान श्रद्धालु अपनी सुविधा अनुसार घोड़ा, पिट्ठू, पालकी या फिर हेलीकॉप्टर सेवा आदि इस्तेमाल कर निरंतर भवन की ओर प्रस्थान करते रहे। वर्तमान में जारी श्राद्ध के चलते मां वैष्णो देवी यात्रा में आंशिक गिरावट देखने को मिल रही है। बीते सप्ताह रोजाना करीब 18 से 20 हजार श्रद्धालु रोजाना मां वैष्णो देवी के दर्शन के लिए आधार शिविर कटड़ा पहुंच रहे थे। वर्तमान में यह आंकड़ा 15 से 18 हजार के बीच चल रहा है। 22 सितंबर को जहां कुल 17,269 श्रद्धालुओं ने मां वैष्णो जी के दर्शन किए थे, वहीं 23 सितंबर को कुल 16,613 श्रद्धालुओं ने हाजिरी लगाई। 24 सितंबर शुक्रवार बाद दोपहर 3:00 बजे तक करीब 6000 श्रद्धालु भवन की ओर प्रस्थान कर चुके थे।