किश्तवाड़, संवाद सहयोगी। जंगल से बाहर आया तेंदुआ किश्तवाड़-अनंतनाग मुख्य मार्ग पर बैठ गया। तेंदुए को देखते ही लोगों में अफरा-तफरी मच गई। सड़क पर चलने वाले वाहन भी रुक गए। लोग अपने-अपने वाहनों के शीशे बंद करके तेंदूए की मस्ती को देखते रहे। तकरीबन एक घंटे तक तेंदुआ सड़क किनारे टहलता रहा। ऐसा लग रहा था कि मानो यह कोई पालतु तेंदुआ हो। लोग अपने मोबाइल फोन से तेंदुए की वीडियो बनाते हुए नजर आए। आगे-आगे तेंदुआ चल रहा था और पीछे-पीछे वाहनों का काफिला।

यह नजारा किश्तवाड़ से 40 किलोमीटर दूरी पर चिंगाम, पारना गांव का है। पास के जंगलों से एक तेंदुआ सुबह सड़क पर आ गया। किसी ने वन विभाग को भी सूचित कर दिया। विभाग के कर्मचारी वहां पहुंचे और उन्होंने तेंदुए को पकड़ने की कवायद शुरू कर दी। कई बार उस पर जाल डाला गया परंतु तेंदुए की फुर्तिलेपन के कारण हर प्रयास विफल हो जाता।

कर्मचारियों ने भी प्रयास करना नहीं छोड़ा और काफी मशक्कत के बाद तेंदुआ वन विभाग काबू में आया। तेंदुए के पकड़े जाने के बाद मार्ग पर वाहनों की आवाजाही सुचारू हो पाई। यह मार्ग किश्तवाड़ से अनंतनाग के लिए है। यही वजह है कि यहां वाहनों की आवाजाही अधिक रहती है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप