जम्मू, राज्य ब्यूरो। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर भूस्खलन में मारे गए डीआईजी सीआरपीएफ शैलेंद्र कुमार का पार्थिव शरीर सोमवार को  श्रद्धांजलि समारोह के बाद पूरे सम्मान के बाद उनके परिजनों के पास ले जाया गया।

उत्तरी कश्मीर रेंज के डीआईजी सीआरपीएफ शैलेंद्र कुमार गत शाम अपने वाहन में जम्मू से श्रीनगर की तरफ जा रहे थे। रामबन के पास डिगडोल में भूस्खलन के दौरान एक पहाड़ी से खिसकी चटटान उनकी जिप्सी पर गिरी थी इस हादसे में उनकी और चालक की की मौके पर ही मौत हो गई थी।

उत्तर प्रदेश में लखनऊ के रहने वाले डीआईजी शैलेंद्र कुमार के पार्थिव शरीर को बीती रात ही जम्मू लाया गया था।आज सुबह जम्मू के बाहरी क्षेत्र चट्ठा स्थित सीआरपीएफ की 161वीं वाहिनी मुख्यालय मे आयोजित एक भावपूर्ण समारोह में अंतिम विदाइ्र दी गई। सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों व जवानों के अलावा जम्मू कश्मीर पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने दिवंगत डीआईजी के तिरंग में लिपटे पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र और फूल मालाएं भेंट कर उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

श्रद्धाजंली समारोह के बाद पूरे सम्मान के साथ दिवंगत डीआईजी का पार्थिव शरीर हवाई जहाज के जरिए उनके परिजनों के पास भेजा गया । 

गौरतलब है कि डीआइजी शैलेंद्र कुमार उत्तरी कश्मीर में डयूटी पर जा रहे थे कि अचानक डिगडोल में एक पहाड़ी से खिसकी चटटान सीधे उनके वाहन पर आ गिरी। उनकी मौके पर ही मौत हो गर्इ थी जबकि उनके वाहन के चालक नवीन कुमार की भी मौके पर ही मौत हो गर्इ थी। वाहन में सवार तीसरा कांस्टेबल मोहम्मद शरीफ खान जो उडी का निवासी था को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रामबन में ले जाया गया लेकिन उसे वहां से तुरंत इलाज के लिए सेना के कमान अस्पताल में रेफर कर दिया गया था। यह जगह पर हादसा हुआ वहां पर अब तक कर्इ बार पहाड़ी से चटटान खिसकने के कर्इ हादसे पेश आ चुके हैं।

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस