श्रीनगर, जागरण ब्यूरो। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिला के त्राल म्यूनिस्पिल कमेटी के चेयरमैन और पुलवामा जिला भाजपा इकाई के सचिव राकेश पंडिता की आतंकियों ने हत्या कर दी है। आतंकी हमले में एक महिला आसिफा मुश्ताक भी जख्मी हो गई हैं। अन्य विवरण प्रतीक्षारत हैं।

जानकारी के अनुसार, बुधवार रात को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिला के त्राल स्थित अपने निवास स्थान पर भाजपा पुलवामा जिला की इकाई के सचिव राकेश पंडिता अपने घर से बाहर टहल रहे थे कि अचानक उन पर कुछ आतंकियों ने हमला कर उन पर फायरिंग करना शुरू कर दी। इस हमले के तुरंत बाद आतंकवादी इस नापाक घटना को अंजाम देकर वहां से फरार हो गए। फायरिंग की आवाज सुनते ही आसपास के लोग घटनास्थल पर पहुंच गए और घायल अवस्था में जमीन पर पड़े राकेश पंडिता को उठाकर अस्पताल ले गए जहां डाक्टरोें ने उन्हें मृत लाया घोषित किया। इस घटना के तुरंत बाद पुलिस और सुरक्षाबलों ने आतंकियों की धरपकड़ के लिए तलाशी अभियान छेड़ दिया है।आतंकियों की फायरिंग में राकेश पंडिता के पड़ोसी मुश्ताक अहमद की बेटी आसिफा मुश्ताक भी घायल हाे गई है। उन्हें त्राल के उपजिला अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है जहां उनका उपचार जारी है।

कश्मीर जोन पुलिस ने भी इंटरनेट मीडिया पर जानकारी दी कि त्राल के म्यूनिस्पिल काउंसलर राकेश पंडिता को सुरक्षा के लिए दो पीएसओ और श्रीनगर शहर में एक सुरक्षित जगह पर होटल में रहने के पुख्ता बंदोबस्त किए गए थे। बावजूद इसके राकेश पंडिता पीएसओ को लिए बिना ही त्राल चले गए। घटनाक्रम वाली जगह को चारों ओर से घेर लिया गया है। क्षेत्र में आतंकियों की धरपकड़ के लिए सघन्न तलाशी अभियान जारी है।

इसी बीच कश्मीर के आइजीपी के विजय कुमार ने बताया कि तीन अज्ञात आतंकियों ने त्रालय के म्यूनिस्पिल काउंसलर राकेश पंडिता सोमनाथ की बुधवार रात को हत्या कर दी है। अस्पताल में इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया है।

एक वर्ष के दौरान घाटी में एक दर्जन के करीब भाजपा कार्यकर्ता विभिन्न आतंकी हमलों में शहीद हो चुके हैं

बीते एक वर्ष के दौरान घाटी में एक दर्जन के करीब भाजपा कार्यकर्ता विभिन्न आतंकी हमलों में शहीद हो चुके हैं। 8 जुलाई 2020 को बांडीपोर में आतंकियों ने भाजपा नेता वसीम बारी को उनके पिता बशीर अहमद और भाई उमर सुल्तान संग उनके घर में ही शहीद किया था। वसीम के पिता और भाई भी भाजपा के कार्यकर्ता थे। इसके लगभग एक माह बाद 9 अगस्त 2020 को ओमपोरा बड़गाम में भाजपा नेता अब्दुल हमीद नजार आतंकी हमले में शहीद हुए।

बड़गाम में अब्दुल हमीद नजार की हत्या से तीन दिन पहले 6 अगस्त को वेस्सु काजीगुंड में भाजपा से संबंधित एक सरपंच सज्जाद अहमद खांडे आतंकी हमले में शहीद हुए थे। इसक बाद 23 सितंबर 2020 को बड़गाम में भाजपा समर्थित ब्लाक विकास परिषद चेयरमैन स भूपेंद्र सिंह को आतंकियों ने उनके घर के बाहर शहीद कर दिया था। 29 अक्तूबर 2020 को कुलगाम में भाजपा के 3 कार्यकर्ता फिदा हुसैन यत्तु, उमर रशीद बेग और उमर रमजान हज्जाम को आतंकियों ने अगवा कर शहीद किया था। गत 29 मार्च को सोपोर में भाजपा से संबंधित दो काउंसलर आतंकी हमले में शहीद हो गए थे।

Edited By: Vikas Abrol