श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। सैन्य शिविर पर हमले में लिप्त आतंकियों को पकड़ने के लिए सुरक्षाबलों द्वारा चलाए जा रहे तलाशी अभियान के बीच ही आतंकियों ने हाजिन में दोबारा एक मस्जिद में प्रकट हो, सभी सुरक्षा एजेंसियों को सकते में डाल दिया है। आतंकियों ने मस्जिद में लोगों को इस्लाम और जिहाद का पाठ पढ़ाते हुए पुलिस व सुरक्षाबलों से दूर रहने की चेतावनी देते हुए कहा कि हुक्म न मानने वाले अपने अंजाम के खुद जिम्मेदार होंगे।

यहां यह बताना असंगत नहीं होगा कि गत मंगलवार की रात को लश्कर-ए-ताईबा के आतंकियों ने हाजिन में पुलिस स्टेशन से कुछ ही दूरी पर स्थित सेना की 13 आरआर के शिविर पर हमला किया। लेकिन जवानों की त्वरित कार्रवाई पर आतंकियों को भागना पड़ा था।

सैन्य शिविर पर हमले में लिप्त आतंकियों को पकड़ने के लिए सेना, पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने हाजिन व उसके साथ सटे इलाकों में गत मंगलवार की रात से ही तलाशी अभियान जारी रखते हुए विभिन्न सड़कों पर विशेष नाके भी लगा रखे हैं। लेेकिन आतंकियों पर सुरक्षाबलों के तलाशी अभियान या नाकों का काेई असर नजर नहीं आया और वह बीते बुधवार की देर रात गए हाजिन के बोन मोहल्ला में प्रकट हुए।

स्थानीय लोगों ने बताया कि स्वचालित हथियारों से लैस तीन आतंकी बोन मोहल्ला की मस्जिद में आए। उन्होंने वहां नमाज अदा की और इस दौरान उन्होंने वहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए इसलाम व जिहाद के रास्ते पर चलने को कहा।

आतंकियों ने लोगों को सुरक्षाबलों,पुलिस,सेना से पूरी तरह दूरी बनाए रखने,उनके साथ किसी तरह का सहयोग व संवाद बंद करने का हुक्म सुनाया और कहा कि जो ऐसा नहीं करेगा,वह अपने अंजाम का खुद जिम्मेदार होगा। आतंकियों ने सुरक्षाबलों के लिए मुखबरी करने वालों को भी गंभीर परिणामों की धमकी दी और कहा कि वह ऐसे लोगों के बारे में सब जानते हैं।

यहां यह बताना असंगत नहीं होगा कि बीते 10 दिनों में यह दूसरा मौका है, जब हाजिन में आतंकियों ने किसी मस्जिद में आकर भाषण दिया है।  

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप