जागरण संवाददाता, जम्मू : गुज्जर हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थियों पर लाठीचार्ज के विरोध में जम्मू विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। विद्यार्थियों ने लाठीचार्ज की निदा की और लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के निलंबन की मांग करते हुए जम्मू विवि मार्ग को बंद कर दिया।

प्रदर्शन कर रहे विद्यार्थियों का कहना था कि गुज्जर बक्करवाल हॉस्टल में रहने वाले विद्यार्थी अपनी जायज मांग को लेकर शांतिपूर्वक तरीके से प्रदर्शन कर रहे थे। उन्होंने हॉस्टल प्रबंधन को उनकी मांग से काफी पहले अवगत करवा दिया था और जब प्रबंधन की ओर से उनकी मांग पर कार्रवाई नहीं की गई तो उन्हें मजबूरन सड़क पर आना पड़ा था। ऐसे में बजाय उनकी बात को सुनने के, पुलिस ने उन पर लाठियां चला उनकी आवाज को दबाने की कोशिश की। प्रदर्शन कर रहे विद्यार्थियों का कहना था कि जब तक लाठीचार्ज करने वाले एसएचओ नवाबाद, डीएसपी व अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती, वे सड़क से नहीं उठेंगे। करीब दो घंटे तक विद्यार्थियों ने जम्मू विवि के बाहर सड़क पर प्रदर्शन किया और वहां से जाने वाली गाड़ियों को भी रोकना शुरू कर दिया। विद्यार्थियों के प्रदर्शन को देखते हुए एसपी साउथ विनय शर्मा मौके पर पहुंच गए। उन्होंने विद्यार्थियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन विद्यार्थी बात को सुनने को तैयार नहीं हो रहे थे। काफी मशक्कत करने के बाद एसपी विनय ने विद्यार्थियों की बात एसएसपी जम्मू तेजेंद्र सिंह से फोन पर करवाई और एसएसपी के आश्वासन के बाद विद्यार्थियों ने अपना प्रदर्शन समाप्त किया। एसएसपी जम्मू ने विद्यार्थियों को आश्वासन दिया कि वह इस मामले की जांच करेंगे और लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करेंगे।

----

एसपी रूरल करेंगे जांच, दो कांस्टेबल अटैच

विद्यार्थियों के प्रदर्शन के बाद एसएसपी जम्मू ने लाठीचार्ज मामले की जांच एसपी रूरल को सौंप दी। इस मामले में कार्रवाई करते हुए दो कांस्टेबलों को अटैच किया गया है। एसपी रूरल इस मामले में जांच के बाद अपनी रिपोर्ट एसएसपी को सौंपेगे और रिपोर्ट के आधार पर लाठीचार्ज में शामिल अन्य पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई का फैसला लिया जाएगा। वहीं विद्यार्थियों ने भी इस मामले की जल्द जांच पूरी करने की मांग की है।

----

बर्खास्त विद्यार्थियों की बहाली की मांग

घटिया खाने के विवाद के बाद गुज्जर बकरवाल हॉस्टल की वार्डन को अटैच करने से विद्यार्थी शांत हो गए हैं। मंगलवार को पांच दिन के बाद विद्यार्थियों ने हॉस्टल का खाना खाया लेकिन वे अब अपने उन साथियों की वापसी की मांग कर रहे हैं जिन्हें वार्डन ने होस्टल से बर्खास्त कर दिया था।

गुज्जर बकरवाल होस्टल की देखरेख फिलहाल जम्मू कश्मीर गुज्जर बकरवाल ट्राइबल एफेयर्स के सचिव मुख्तार अहमद कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि हॉस्टल में स्थिति सामान्य है। उधर, विद्यार्थियों का कहना है कि उनके जिन साथियों को हॉस्टल से बिना वजह वार्डन ने निकाल दिया था, उन्हें वापस लिया जाए। इसके अलावा उन्होंने उन पर गंभीर आरोप लगाए जाने पर भी जवाब मांगा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप