जम्मू, विकास अबरोल। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण प्रदेश में पिछले चार महीनों से बंद खेल मैदान को भले ही खुलने में अभी समय लग सकता है। इस बीच सरकार ने मैदानों को खोलने से पहले प्रदेश में खेलों के बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए जोरोंशोरों से काम शुरू कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर स्टेट स्पोटर्स काउंसिल के अधीनस्थ प्रदेश के खेल मैदान हैं। इनके रखरखाव और खेलों का बुनियादी ढांचा तैयार करने की जिम्मेदारी स्पोटर्स काउंसिल के इंजीनियरिंग विंग के पास है। चूंकि प्रदेश के सभी जिलों में स्थित खेल मैदान विशेषकर इंडोर स्पोटर्स कांप्लेक्स को क्वारंटाइन केंद्र के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसकी वजह से जब तक काेरोना काल का संकट खत्म नहीं हो जाता तब तक इनका खुलना काफी मुश्किल है। यहीं वजह है कि आउटडोर मैदानों को विकसित करने का काम शुरू हो चुका है। मौलाना आजाद स्टेडियम में स्थित पुराने सीजनल स्विमिंग पूल को ऑल वेदर पूल बनाने का काम एक बार फिर से शुरू हो चुका है। गत वर्ष नवंबर महीने में इसका काम शुरू हुआ ही था कि मार्च महीने में कोरोना वायरस संक्रमण के संकट के बादल छाने की वजह से सभी विकास कार्य रुक गए थे।

मौलाना आजाद स्टेडियम के मैनेजर सतीश गुप्ता ने बताया कि 32 लाख रुपए की लागत से बनाए जाने वाले ऑल वेदर स्विमिंग पूल का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। मौजूदा स्विमिंग पूल को पूरी तरह से इंडोर बनाने के लिए ट्यूबर स्टील स्ट्रक्चर से ढककर फिर इसेक ऊपर पॉलिकारबोनेट शीट लगाई जाएगी ताकि स्विमिंग पूल में रोशन की भी पर्याप्त व्यवस्था रहे। इसके अलावा इंडोर पूल के प्रवेश के लिए अलग से एंट्री प्वाइंट के अलावा मौजूदा फाउंटेन को दुरुस्त कर तैराकों के लिए तमाम अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगी।

उधर केके हक्कू एस्ट्रो टर्फ स्टेडियम को संवारने का भी काम करीब-करीब पूरा हो चुका है। स्टेडियम की दीवारों पर टाइल लगाने के अतिरिक्त खिलाड़ियों की सुविधा के लिए चेंजिंग रूम बनकर तैयार हो गया है जबकि स्टेडियम में प्रवेश करने के लिए पॉथवे भी बना दिया गया है। श्रीनगर के बख्शी स्टेडियम को भी क्रिकेट स्टेडियम में परिवर्तित करने का काम अंतिम चरणों में पहुंच चुका है। गत दिनों केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल जीसी मुर्मू के सलाहकार फारूक खान ने बख्शी स्टेडियम का दौरा कर वहां जारी विकास कार्यों का जायजा लिया था।

शहर के शास्त्री नगर स्थित डोगरा ग्राउंड में बॉस्केटबॉल कोर्ट, हैंडबॉल कोर्ट, खिलाड़ियों के लिए चेंजिंग रूम और वॉश रूम का निर्माण कार्य जारी है जिसे जल्द ही तयशुदा समय में निपटा लिए जाने की पूरी संभावना है।

स्पोटर्स काउंसिल के सोने की खान से कम नहीं है स्विमिंग पूल: जम्मू-कश्मीर स्टेट स्पोटर्स काउंसिल के लिए मौजूदा सीजनल स्विमिंग पूल सोने की खान से कम नहीं है। यहीं वजह है कि काउंसिल राजस्व में इजाफा करने के लिए इसे ऑल वेदर स्विमिंग पूल के निर्माण कार्य को जल्द से जल्द निपटाना चाहती है ताकि स्थिति सामान्य होने पर अगली बार केवल छह महीने ही नहीं बल्कि वर्षभर खुलने की वजह से काउंसिल के राजस्व में दोगुनी वृद्धि की जा सके।

अभी तक पिछले तीन वर्षों में मौलाना आजाद स्टेडियम का सीजनल स्विमिंग पूल हर छह महीने में स्पोटर्स काउंसिल को 20 लाख रुपए का राजस्व कमाकर देता रहा है। भविष्य में ऑल वेदर स्विमिंग पूल में परिवर्तित होने की वजह से राजस्व 50 लाख रुपए के करीब पहुंचने की पूरी उम्मीद है। पूल के प्रभारी सतीश गुप्ता ने बताया कि हर सीजन में 550 के करीब प्रतिभागी सुबह और शाम के सत्र में तैराकी करने आते थे जिससे काउंसिल को काफी अच्छी आमदनी होती रही है। ऑल वेदर पूल बनने से तैराकों के शौकीनों को भविष्य में प्राइवेट निजी क्लब के स्विमिंग पूल में जाने के लिए अपनी जेब हलकी नहीं करनी पड़ेंगी। 

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस