जम्मू, जागरण संवाददाता। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट्ट की फांसी की बरसी पर आतंकी हमले की चेतावनी के चलते जम्मू व कश्मीर घाटी में सुरक्षा को कड़ा कर दिया गया है। खुफिया एजेंसियों ने एक बड़ा अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि आतंकियों द्वारा सुरक्षाबलों के शिविरों और संवेदनशील स्थलों में हमला करने की चेतावनी जारी की है। यही नहीं घाटी में एहतियात के तौर पर 2जी मोबाइल इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गइ है।

एजेंसियों की रिपोर्ट में कहा गया है कि तड़के सेना और सीआरपीएफ के कैंप पर आतंकी हमले की साजिश रच रहे हैं। इसलिए सभी सुरक्षा बल सावधान रहें। नाकों पर जवानों को तैनात कर दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय सीमा की ओर से आने वाले मार्गों पर सुरक्षा को कड़ा करने के लिए कहा गया है।

जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर विशेष नाके लगा कर घाटी से जम्मू की ओर आ रहे वाहनों की जांच करने को कहा गया है। सभी थाना प्रभारियों को रात के समय सतर्क रहने को कहा गया है। काबिलेगौर है कि ओवर ग्राउंड वर्कर्स पर नकेल कसने के लिए जम्मू पुलिस ने विशेष अभियान चलाया हुआ है। इसके तहत पुलिस के आतंकवाद विरोधी दस्ते स्पेशल आपरेशन ग्रुप की भी मदद ली जा रही है।

वहीं कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन ने एहतियात के तौर पर इंटरनेट सेवाओं को आज निलंबित कर दिया है।जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह कइ बार यह बात कह चुके हैं कि घाटी में इंटरनेट सेवा बहाल होने के बाद आतंकवादी गतिविधियां बढ़ गइ हैं। आतंकवादी वीपीएन की मदद से सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। यही वजह है कि भट्ट की बरसी पर आतंकी किसी बड़ी वारदात को अंजाम न दें इस वजह से एहतियात के तौर पर घाटी में इंटरनेट सेवा को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। सनद रहे कि 25 जनवरी को कश्मीर में 2 जी इंटरनेट सेवाओं को बहाल किया गया था।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस