श्रीनगर, [राज्य ब्यूरो] । सुरक्षाबलों ने शोपियां में आतंकियों की धरपकड़ के लिए छह गांवों में कासो (घेराबंदी कर तलाशी) चलाया। इसके अलावा बांडीपोरा में पिछले माह मारे गए आतंकी लखवी के भतीजे के ठिकाने से भारी मात्र में हथियारों का जखीरा बरामद किया गया।

बांडीपोरा के पास स्थित चंद्रगीर गांव में 18 नवंबर को सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में लश्कर के ऑपरेशनल चीफ जकी उर रहमान लखवी का भतीजा ओसामा जंगी अपने चार अन्य साथियों संग मारा गया था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि तड़के ही पुलिस के विशेष जांच दल ने स्थानीय पुलिस, सेना की 13 आरआर और सीआरपीएफ के जवानों के साथ मिलकर चंद्रगीर गांव में अब्दुल रहमान पर्रे के मकान में छापा मारा।

  सुरक्षाबलों ने घर की तलाशी लेते हुए जब मवेशियों के बाड़े में प्रवेश किया तो वह कुछ घबरा गया। उसने इसका विरोध किया। उसे ऐसा करते देख सुरक्षाबलों का शक यकीन में बदल गया और उन्होंने मवेशियों के कमरे की जमीन को एक जगह खोदा तो वहां एक बैग में हथियार मिले। बरामद हथियारों में एके-47 राइफल के पांच मैगजीन, एके-47 के 42 कारतूस, एक यूबीजीएल, तीन यूबीजीएल ग्रेनेड, एक जीपीएस, दो वायरलेस व अन्य साजो सामान मिला है।

पिछले माह लश्कर के पांच आतंकियों को सुरक्षाबलों ने इसी मकान में घेरा था। इस बीच, सुबह लश्कर और हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों के दो दलों को दक्षिण कश्मीर के जिला शोपियां के अंतर्गत चित्रीपोरा और कापरन बीच देखे जाने की सूचना मिलते ही सेना की 62 और 34 राष्ट्रीय राइफल के जवानों ने राज्य पुलिस विशेष अभियान दल के जवानों के साथ मिलकर पूरे इलाके में कासो चलाया। पांच घंटे तक चले इस तलाशी अभियान के दौरान जवानों ने कई स्थानीय युवकों से भी पूछताछ की, लेकिन किसी को हिरासत में नहीं लिया गया और दोपहर तक आतंकियों का सुराग नहीं मिलने पर जवानों ने कासो समाप्त कर दिया।

 

 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप