जम्मू, जागरण संवाददाता : जम्मू शहर के विस्तार के लिए एक बड़ी पहल में जम्मू विकास प्राधिकरण भलवाल में रिंग रोड के किनारे लगभग 50 हजार की आबादी के लिए एक एकीकृत स्मार्ट सैटेलाइट टाउनशिप विकसित करने जा रहा है। ऐसी ही एक टाउनशिप जेएंडके हाउसिंग बोर्ड भी बनने जा रहा है। सेटेलाइट टाउनशिप विकसित करने का यह निर्णय आवास एवं शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव धीरज गुप्ता की अध्यक्षता में जेडीए के निदेशक मंडल की बैठक में लिया गया।

इस प्रस्तावित टाउनशिप में सभी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी और यह पूरी तरह से आत्मनिर्भर अत्याधुनिक होगा। पिछले तीन दशकों में ऐसा पहली बार होगा कि जेडीए जम्मू में इस पैमाने की आवासीय कालोनी का विकास करेगा। प्रस्तावित टाउनशिप जम्मू शहर के विस्तार की जरूरतों को हर तरह से पूरा करेगी। बैठक में सरकारी वन पारिस्थितिकी एवं पर्यावरण विभाग के आयुक्त सचिव संजीव वर्मा, संभागीय आयुक्त रमेश कुमार, जम्मू की उपायुक्त अवनी लवासा, निगम आयुक्त राहुल यादव समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे।

66 करोड़ से पुरानी कालोनियों में होगा विकास : बोर्ड ने जेडीए की विकसित होने वाली हाउसिंग कालोनियों जैसे उदयवाला, गोले गुजराल, बीरपुर, कोट भवन और रूप नगर सेक्टर 6 में 66 करोड़ रुपये के अनुमानित खर्च के साथ जल निकासी, सड़क, जलापूर्ति और बिजली वितरण बुनियादी ढांचे के सुधार को मंजूरी दी। इन कालोनियों में दस हजार से अधिक निवासियों की आबादी है। रूपनगर हाउसिंग कालोनी सेक्टर 6 (नया) के उसी कसलोनी के अन्य सेक्टरों के आवंटियों को वैकल्पिक भूखंडों का अनुदान, जिन्हें लंबे कानूनी विवादों के कारण कब्जा नहीं सौंपा जा सकता था, को भी बोर्ड द्वारा अनुमोदित किया गया था।

1200 आवास इकाइयां पीपीपी मोड में बनेंगी : वाइस चेयरमैन पंकज मगोत्रा ने जेडीए के कामकाज से संबंधित कई मुद्दों और जम्मू शहर में बुनियादी ढांचे के विकास के लिए नई पहल पर चर्चा के लिए बोर्ड के समक्ष पिछली बैठक के निर्णयों पर की गई कार्रवाई सहित एक विस्तृत एजेंडा प्रस्तुत किया। वीसी जेडीए द्वारा बोर्ड को अवगत कराया गया कि केपीएमजी, नाइट फ्रैंक्स अर्न्स्ट एंड यंग, सीबीआरई, जेएलएल जैसे देश के शीर्ष रियल एस्टेट सलाहकारों को पीपीपी मोड में शुरू की जाने वाली आगामी प्रमुख बुनियादी ढांचा विकास परियोजना के लिए जेडीए द्वारा लेनदेन सलाहकार के रूप में सूचीबद्ध किया गया है।

लगभग 1200 आवास इकाइयों के निर्माण के लिए बीरपुर, सांबा में मास फ्लैट हाउसिंग प्रोजेक्ट, रेल हेड कॉम्प्लेक्स में प्राइम कमर्शियल स्पेस का विकास, सिद्धड़ा में इको-रिसॉर्ट और सिटी फॉरेस्ट का विकास, बाहू किले के पास कालिका कालोनी का पुनर्विकास, चौथे तवी पुल के नजदीक आईटी टावर और ओल्ड बस स्टैंड जम्मू का पुनर्विकास शामिल है। बोर्ड ने विभिन्न सरकारी विभागों को जेडीए की भूमि दिए जाने के प्रस्ताव का भी अनुमोदन किया। इसमें कोट भलवाल में 150 कनाल जमीन जेएंडके हाउसिंग बोर्ड को सौंपने का प्रस्ताव भी शामिल है।

वित्त व स्थापना समिति के गठन को मंजररी : बोर्ड ने जेडीए द्वारा विकसित किए जाने वाले 200 से अधिक ईडब्ल्यूएस फ्लैटों के लिए प्राप्त ऑनलाइन आवेदनों के मूल्यांकन के लिए डीसी जम्मू की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया ताकि केवल सही लाभार्थी ही इस आवास परियोजना का लाभ उठा सकें। बोर्ड ने वीसी जेडीए को समाज के विभिन्न वर्गों के लिए आवासीय कॉलोनियों के विकास के लिए भूमि की पहचान करने का भी निर्देश दिया।

जेडीए से संबंधित वित्तीय और कर्मचारियों से संबंधित मुद्दों पर विचार करने और निपटाने के लिए नई वित्त समिति और स्थापना समिति के गठन को भी मंजूरी दी गई। बोर्ड ने वीसी जेडीए को व्यक्तिगत रूप से निगरानी करने, सक्रिय रूप से आगे बढ़ने और जेडीए भूमि से जुड़े लंबे समय से लंबित कानूनी मामलों के निपटान को सुरक्षित करने और जेडीए भूमि के अतिक्रमणकारियों से सख्ती से निपटने की सलाह दी। वर्ष 2018-19, 2019-20 और 2020-21 के लिए जेडीए के वार्षिक लेखा परीक्षित खातों को भी बोर्ड द्वारा अपनाया गया था।

हरि सिंह पार्क में बनेगी ट्रिब्यूट वाल : बोर्ड ने आजादी का अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में स्वतंत्रता सेनानियों के स्मरणोत्सव के लिए महाराजा हरि सिंह जी पार्क में 100 फीट ऊंचाई वाले राष्ट्रीय ध्वज के साथ 100 फीट की श्रद्धांजलि दीवार के निर्माण को मंजूरी दी। ट्रिब्यूट वाल देश की अपनी तरह की अनूठी दीवार होगी, जिसमें स्वतंत्रता सेनानियों की कहानियों को ले जाने वाले क्यूआर कोड के साथ ग्रेनाइट पत्थर में खुदे हुए स्वतंत्रता सेनानियों के नाम होंगे।

प्रतिष्ठित श्रद्धांजलि दीवार लगभग 1000 स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में जागरूकता पैदा करेगी और वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों के बीच देशभक्ति की भावना पैदा करेगी। इसके अलावा राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देगी और पार्क में पर्यटकों के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण होगा।

Edited By: Lokesh Chandra Mishra