जागरण संवाददाता, जम्मू। राज्य पुलिस की ट्रैफिक ¨वग के इंस्पेक्टर जरनल आफ पुलिस आइजीपी बसंत के तबादले के साथ जम्मू शहर में वाहनों का जाम आम दिखाई देने लगा। सड़कों पर अवैध अतिक्रमण फिर से काबिज हो गया। जिस व्यस्त मार्गों से अवैध रेहड़ियों को हटाया गया था, वह वीरवार सुबह ही फिर से सड़क पर लौट आई।

मिनीबस चालकों की मनमर्जी साफ देखी गई। पहले अकसर मिनीबसों के चलते हुए दरवाजा बंद दिखाई देता था, वे बुधवार को खुले हुए दिखे। बेकाबू ट्रैफिक व्यवस्था का असर पुराने शहर में देखा गया। दिन भर शहर में वाहन रेंगते हुए देखे गए। सबसे बुरा हाल अंबफला से जानीपुर की ओर से वाले मार्ग पर था।

इस मार्ग पर छोटे सा सफर तय करने के लिए लेागों को लंबा समय लग रहा था। शहर के कई हिस्सों में वाहन चालकों को चौक चौराहों पर सिग्नल लाइट लाल होने के बावजूद वाहन दौड़ाते हुए देखा गया।

ट्रैफिक कर्मी तो सड़कों पर तैनात दिखे लेकिन उस जोश से वे काम नहीं कर रहे थे, जिससे वे अकसर काम करते नजर आते थे। वहीं, शहर के बाहरी क्षेत्र बिश्नाह, आरएसपूरा, अखनूर, कानाचक्क, नगरोटा में भी यात्री वाहनों में पहले की तरह ओवरलो¨डग देखी गई। तय संख्या से दो गुना यात्रियों को वाहन चालकों ने बैठा रखा था, जिससे कभी भी हादसा हो सकता है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप