जम्मू, जेएनएन। मौसम ने एक बार फिर जनजीवन को प्रभावित कर दिया। जम्मू के निचले इलाकों में देर रात से हो रही बारिश, उच्चाई वाले इलाकों में बर्फबारी ने लोगों को घरों में सिमटने को मजबूर कर दिया। बारिश के कारण जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर रामबन से बनिहाल के बीच कई जगह भूस्खलन होने के बाद से हाइवे को एक बार फिर वाहनों की आवाजाही के लिए बंद कर दिया है। ट्रैफिक पुलिस ने दूसरे राज्यों से श्रीनगर जाने वाले वाहनों को लखनपुर, नगरोटा और ऊधमपुर के जखैनी इलाके में रोक दिया है। खराब मौसम के बीच हाइवे बंद हो जाने के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों का लंबा जाम लग गया है। वहीं कश्मीर घाटी में भी रविवार से हो रही बर्फबारी सोमवार को भी जारी रही। इससे ठंड का प्रकोप बढ़ गया है।

श्रीनगर शहर में पांच सेमी बर्फ गिर चुकी है। इससे हवाई यातायात पर भी असर पड़ा है। रविवार को भी श्रीनगर एयरपोर्ट से दोपहर तक कोई भी उड़ान नहीं हो पाई थी। कश्मीर के कई हिस्सों में रविवार सुबह से ही बर्फबारी शुरू हो गई थी जो आज भी जारी है। मौसम विभाग के अनुसार पहाड़ों से सटे मैदानी क्षेत्रों में बर्फबारी कम हो रही है, लेकिन जम्मू, लद्दाख और कश्मीर के पहाड़ी क्षेत्रों में भारी बर्फबारी हो रही है। श्रीनगर शहर में सुबह पांच सेंटीमीटर बर्फ पड़ चुकी थी।

दक्षिण कश्मीर के पहलगाम पर्यटन स्थल पर 13 सेंटीमीटर बर्फ गिरी है। उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के गुलमर्ग में 11 सेंटीमीटर बर्फ गिरी है। कुपवाड़ा में 32 सेंटीमीटर तक बर्फबारी हुई है। लेह में भी बर्फबारी हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार दोपहर बाद मौसम में सुधार होगा।

वहीं जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर स्थित रामबन जिले में मोम पस्सी, डिगडोल के पास रात को भूस्खसलन हुआ है। बारिश जारी होने के कारण मलवे को हटाया नहीं जा सकता है। ट्रैफिक विभाग ने हाइवे पर वाहनों को रोक दिया है। जवाहर टनल में भी बारी बर्फबारी हो रही है। वहां भी वाहनों की लंबी कतारें लग चुकी हैं। मौसम में सुधार होने के बाद ही बर्फ व मलवे को हटाने का काम शुरू किया जाएगा। इसके अलावा पुंछ से घाटी को जोड़ने वाला एेतिहासिक मुगल रोड व कश्मीर को लेह से जोड़ने वाला जोजिला मार्ग भी लगभग महीनों से बंद है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस