जागरण संवाददाता, जम्मू : शहर के मुख्य बस स्टैंड की मौजूदा इमारत कभी भी किसी बड़े हादसे का सबब बन सकती है। पिछले चौबीस घंटे से जारी बारिश के बीच इमारत की छत जगह-जगह से टपक ही रही है, कुछ हिस्से गिर भी रहे हैं। इतना ही नहीं इमारत की मजबूती के लिए बने बीम भी टूटने की कगार पर हैं। यात्रियों के बैठने के लिए सूखी जगह तक नहीं बची।

जम्मू विकास प्राधिकरण द्वारा इमारत की मरम्मत नहीं किए जाने से यह जर्जर हो चुकी है। जेडीए ने इसकी हालत को देखते हुए असुरक्षित भी घोषित कर दिया है लेकिन यहां से न तो कोई दुकान हटाई गई और न ही कोई ऐसे प्रबंध किए गए हैं जिससे हादसे की सूरत में निपटा जा सके। अलबत्ता मल्टीटियर पार्किग का निर्माण जोरशोर से जारी है। यात्रियों से भी ज्यादा इसमें दुकानें करने वाले दुकानदार परेशान हैं। शुक्रवार को भी पुंछ काउंटर के नजदीक इमारत की छत का कुछ हिस्सा नीचे गिर गया। गनीमत रही कि जिस जगह से छत का सीमेंट गिरा, वहां कोई यात्री नहीं था, वरना हादसा हो जाता। विगत दिवस भी इसके पास ही बीम का हिस्सा टूटा था। बारिश के बीच इमारत की छत के हिस्से गिर रहे हैं और बीच लगे सरिये दिखने लगे हैं। इससे खतरा बढ़ता ही जा रहा है। इससे दुकानदारों में भी रोष है। वे चाहते हैं कि जेडीए नई इमारत के बनने तक तो इस इमारत का रखरखाव करे। ऐसा न हो कोई बड़ी दुर्घटना घट जाए। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने के कई यात्री अभी यहां फंसे हुए हैं। बस स्टैंड में यात्रियों को ठहरना भी सुरक्षित नहीं दिख रहा। ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान आरके टॉक का कहना है कि जेडीए के अधिकारियों को बार-बार इस बारे में बताया गया है। अधिकारी इस इमारत को असुरक्षित घोषित कर चुके हैं। लेकिन अभी तक कोई इंतजाम नहीं हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस