जम्मू, राज्य ब्यूरो : राष्ट्रपति राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने उत्तरी कमान ऊधमपुर में पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को उनके जन्मदिन पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इसके बाद वह लद्दाख के द्रास के लिए रवाना हो गए। जम्मू-कश्मीर और केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन में वह कारगिल युद्ध स्मारक जाएंगे और शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि देंगे। वह विजयदशमी मनाने के लिए शस्त्र पूजा में भी भाग लेंगे। इसके बाद राष्ट्रपति सैनिकों के साथ बातचीत भी करेंगे। वहीं

राष्ट्रपति ने शुक्रवार की सुबह उत्तरी कमान ऊधमपुर में पूर्व राष्ट्रपति डा. एपीजे अब्दुल कलाम के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस माैके पर सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद है। राष्ट्रपति ने विजया दशमी के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को भी हार्दिक बधाई दी। उन्होंने अपने संदेश में कहा कि दशहरा, बुराई पर अच्‍छाई की विजय का प्रतीक है। यह त्‍योहार हमें नैतिकता, भलाई और सदाचार के रास्‍ते पर चलने की प्रेरणा देता है। मेरी शुभकामना है कि यह पर्व देशवासियों के जीवन में समृद्धि व प्रसन्नता का संचार करे।

राष्ट्रपति ने इससे पहले वीरवार देर शाम को ऊधमपुर स्थित उत्तरी कमान मुख्यालय में सैनिकों और उनके परिजनों से मिलकर उनका हौंसला बढ़ाया था और उन्हें विजया दशमी की मुबारक दी थी। इस दौरान जवानों में राष्ट्रपति से मिलकर उत्साह देखने को मिल रहा था। राष्ट्रपति ने उनसे मिलकर उनकी सराहना की।

इस मौके पर उत्तरी कमान में राष्ट्रपति के स्वागत में देश भक्ति से ओत-प्रोत कार्यक्रम भी आयोजित किया गया था। जवानों ने देश भक्ति के गीत गाकर पूरे माहौल को देश भक्तिमय बना दिया था। राष्ट्रपति ने भी उनकी सराहना की थी।राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द गुरुवार को केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर लेह पहुंचे हैं।

आज शुक्रवार को अपने दौरे के दूसरे दिन राष्ट्रपति द्रास में कारगिल वार मेमोरियल में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देंगे। इसके बाद वह विजयादशमी मनाने के लिए शस्त्र पूजा में भी भाग ले सकते हैं। राष्ट्रपति वार मेमोरियल पर सैनिकों के साथ बातचीत भी करेंगे।

राष्ट्रपति ने वीरवार को लद्दाख पहुंचने पर सिंधु घाट में सिंधु दर्शन पूजा की और सर्वधर्म सभा में विश्व में शांति, खुशहाली और सभी के स्वास्थ्य लाभ के लिए प्रार्थना भी की। राष्ट्रपति के साथ उनकी बेटी स्वाति कोविन्द भी मौजूद रहीं। सुबह लेह पहुंचने पर उपराज्यपाल आरके माथुर ने राष्ट्रपति का स्वागत किया। इसके बाद वह सिंधु दर्शन पूजा के लिए सिंधु घाट रवाना हो गए।

वहां पर भी लद्दाख के पारंपरिक संगीत के बीच उनका स्वागत हुआ। उपराज्यपाल ने उन्हें स्मृति चिह्न भेंट किया। सिंधु घाट पर बौद्ध भिक्षुओं ने प्रार्थना की। इसके बाद सभी धर्मों की प्रार्थनाएं हुईं। राष्ट्रपति ने स्कूली बच्चों द्वारा प्रस्तुत देश भक्ति और सांस्कृतिक कार्यक्रमों को भी देखा। कार्यक्रम से प्रभावित होकर राष्ट्रपति ने छात्रों को राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित किया। उपराज्यपाल आरके माथुर ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद लद्दाख की प्रगति पर उनके साथ बातचीत भी की।

राष्ट्रपति ने जवानों का बढ़ाया हौसला : राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द वीरवार दोपहर को एयर इंडिया के विशेष विमान से लेह से ऊधमपुर एयरफोर्स स्टेशन पहुंचे। वहां से राष्ट्रपति हेलीकाप्टर से उत्तरी कमान मुख्यालय पहुंचे। जहां शाम को उन्होंने ध्रुवा आडिटोरियम में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में सेना के बैंड और जम्मू कश्मीर पुलिस के बैंड ने अपनी प्रस्तुति दी। इसके साथ ही अन्य कलाकारों ने देश भक्ति के कार्यक्रम प्रस्तुत किए। इसके बाद कमान मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति ने सेना के जवानों, अधिकारियों व उनके परिवार के लोगों से मुलाकात की। उन्होंने सभी को रामनवमी की शुभकामनाएं दीं और बच्चों में चाकलेट भी वितरित किए। उन्होंने जवानों के साथ भारत माता के जयघोष लगाकर उनका उत्साह और मनोबल बढ़ाया। कार्यक्रम का समापन बड़ा खाने के साथ हुआ। शुक्रवार सुबह राष्ट्रपति द्रास के लिए रवाना होंगे। 

Edited By: Rahul Sharma