राज्य ब्यूरो, जम्मू: राज्य प्रशासन द्वारा जारी किए गए छुट्टियों के नए कैलेंडर पर सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है। वहीं, महाराजा हरि सिंह की जयंती पर छुट्टी पर कोई फैसला नहीं होने पर विभिन्न राजनीतिक दलों ने भाजपा को घेरा है। महाराजा की जयंती पर अवकाश के लिए भाजपा ही नहीं, अन्य दल भी आवाज उठाते रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता रविद्र शर्मा ने छुट्टियों के कैलेंडर में महाराजा हरि सिंह के जन्मदिवस पर अवकाश घोषित न होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि महाराजा हरि सिंह ने जम्मू कश्मीर का भारत के साथ विलय किया था। भाजपा लोगों के साथ यह वादा करती रही है, लेकिन वादे को निभाया नहीं गया। उन्होंने शेख मोहम्मद अब्दुल्ला के पांच दिसंबर के जन्मदिवस के अवकाश को खत्म करने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि शेख अब्दुल्ला ने अली मोहम्मद जिन्ना के मंसूबों को नाकाम बनाया था। शेख ने टू नेशन थ्यूरी का विरोध किया था। शेख ने तब की केंद्र सरकार का समर्थन करते हुए सेना को भी सहयोग दिया था। शेख के जम्मू कश्मीर में योगदान को देखते हुए उनके जन्म दिवस के अवकाश को रद्द नहीं करना चाहिए था। जम्मू के लोगों की भावनाओं को नजरअंदाज किया

पैंथर्स पार्टी के चेयरमैन हर्षदेव सिंह ने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के छुट्टियों के कैलेंडर में महाराजा हरि सिंह के जन्मदिवस पर अवकाश घोषित न किए जाने की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि जम्मू के लोगों के साथ नाइंसाफी की गई है। महाराजा हरि सिंह ने जम्मू कश्मीर का विलय भारत के साथ किया था। जम्मू के लोगों की भावनाओं को नजरअंदाज किया गया है। महाराजा हरि सिंह के जन्मदिवस पर अवकाश की जम्मू के लोगों की लंबित मांग थी। उन्होंने विलय दिवस पर अवकाश करने पर एक अच्छा कदम बताया। विलय दिवस पर अवकाश ऐतिहासिक

प्रदेश भाजपा के प्रधान रविद्र रैना ने विलय दिवस पर अवकाश को ऐतिहासिक फैसला करार देते हुए कहा कि गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस के बाद जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए इस अहम दिन पर अवकाश होना सराहनीय कदम है। उन्होंने कहा कि विलय दिवस का महत्व सिर्फ जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश के लिए है क्योंकि महाराजा हरि सिंह ने 26 अक्टूबर 1947 को विलय पत्र पर हस्ताक्षर करके जम्मू कश्मीर का भारत के साथ विलय किया था। उन्होंने शेख मोहम्मद अब्दुल्ला के जन्मदिवस और शहीदी दिवस पर अवकाश को रद करने के फैसले का स्वागत किया। रैना ने कहा कि महाराजा हरि सिंह के जन्मदिवस पर अवकाश के मामले को उपराज्यपाल जीसी मुर्मू के समक्ष उठाया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस