रियासी, राजेश डोगरा : कहते हैं कि दान-धर्म के नाम पर एक रुपया खर्च करो तो भगवान एक हजार लौटाते हैं। रियासी जिला की कांजली पंचायत के छपानी गांव के रहने वाले लेखराज के परिवार पर भी श्रीराम लला की ऐसी ही कृपा बरसी। श्रीराम लला के मंदिर निर्माण के लिए अपनी हैसियत से कहीं अधिक 500 रुपए धन संग्रह देने के बाद लेखराज का परिवार मीडिया की सुर्खी बन गया। लेखराज के परिवार की माली हालत सार्वजनिक होने के बाद उसकी मदद के लिए कई लोग सामने आने लगे हैं। सबसे पहले सांबा से एक सामाजिक संस्था से जुड़े गिरधारी लाल राशन लेकर रविवार को छपानू स्थित लेखराज के परिवार के पास पहुंचे। उन्होंने राशन लेखराज की पत्नी कांता देवी को सौंप दिया।

गिरधारी लाल के अलावा भी एक सज्जन ने 1100 रुपए की राशि लेखराज के परिवार को सहायता के तौर पर दी। लेखराज तथा उनके परिवार ने भगवान श्रीराम के प्रति जो आस्था दिखाई है, इस बारे में सबसे पहले दैनिक जागरण ने खबर प्रमुखता से प्रकाशित की। उसके बाद लेखराज का परिवार चर्चा में आ गया। बता दें कि मूल रूप से डोडा जिले का रहने वाला लेखराज का परिवार आतंकवाद के कारण वर्ष 1991 में पलायन कर कांजली में आ गया था। दो दुर्घटनाओं और फिर लंबे समय तक बीमार होने के कारण लेखराज के दोनों हाथ तथा एक टांग सही तरह से काम नहीं करते। उसके बावजूद वह मेहनत मजदूरी कर किसी तरह परिवार का पेट पालने की कोशिश कर रहे हैं।

किसी द्वारा दी गई जमीन पर लेखराज का परिवार एक झोपड़ी बनाकर समय गुजार रहा है। चंद रोज पहले श्रीराम निधि समर्पण अभियान के तहत गांव की समिति जब धन संग्रह के लिए निकली थी तो इस परिवार ने अपनी हैसियत से कहीं अधिक 500 रुपए का सहयोग दिया। दैनिक जागरण में खबर छपने के बाद कई मीडिया लेखराज तक पहुंची। इस बारे में पता चलने पर सांबा से एक सामाजिक संस्था के लोगों ने लेखराज के घर पहुंच कर उन्हें राशन उपलब्ध करवाया। वहीं स्थानीय निवासी एवं समिति सदस्य रामराज ने कहा कि संस्था द्वारा उपलब्ध करवाए राशन से लेखराज के परिवार को कुछ दिन तो भरपेट खाने को मिलेगा।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021