जागरण संवाददाता, जम्मू : बिजली विभाग को निजीकरण करने के विरोध में विभाग के 31 हजार कर्मचारियों की काम छोड़ो हड़ताल आज आठवें दिन में प्रवेश कर गई। कर्मचारियों ने साफ किया कि जब तक राज्यपाल प्रशासन विभाग को निजीकरण करने का फैसला वापस नहीं ले लेता तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

ऑल जेएंडके पॉवर इंप्लाइज एंड इंजीनियर्स कोऑर्डिनेशन कमेटी के बैनर तले वीरवार सुबह सभी कर्मचारी अपने-अपने कार्यालयों के बाहर धरना देकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। इसके उपरांत सभी कर्मचारी पनामा चौक स्थित सुपरिटेंडिग इंजीनियर कार्यालय के बाहर सुबह 11.30 बजे एकत्र होकर डिवीजनल कमिश्नर कार्यालय की ओर से विरोध रैली निकालेंगे। कमेटी के चेयरमैन इंजीनियर जयपाल शर्मा ने बताया कि मांगों के समर्थन में डिवीजनल कमिश्नर संजीव वर्मा को ज्ञापन भी सौंपा जाएगा। विरोध मार्च को सफल बनाने के लिए कमेटी के सदस्यों की बैठक भी हुई। कर्मचारियों की काम छोड़ो हड़ताल के कारण इस महीने उपभोक्ताओं को बिजली के बिल भी नहीं पहुंचेंगे। विभाग की रेपिड एक्शन टीम को काम छोड़ो हड़ताल से बाहर रखा गया है ताकि लोगों को कोई दिक्कत न हो। टीम ने आज तालाब तिल्लो, सतवारी, रूप नगर, मुट्ठी सहित अन्य क्षेत्रों में आए फाल्ट को दुरुस्त कर बिजली आपूर्ति को सुचारू करने में काफी सहयोग किया। कमेटी के सदस्यों ने राज्यपाल से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है। बैठक में कमेटी के कनवीनर इंजीनियर सचिन, महासचिव एजाज काजमी, संजीव बाली, कुलबीर सिंह, बलबीर सिंह, अनिल सलाथिया, मंजीत सिंह, तरुण गुप्ता, पवन गंडोत्रा, एचडी सिंह, सुषमा परिहार सहित अन्य यूनियन के पदाधिकारी भी मौजूद थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस