राज्य ब्यूरो, श्रीनगर : केंद्रीय आयुश व रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद नायक ने वीरवार को जम्मू कश्मीर को मेडिकल टूरिज्म का हब बनाने का यकीन दिलाते हुए कहा कि गुलमर्ग, पत्नीटॉप और पहलगाम को आयुश स्वास्थ्य पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जाएगा। जम्मू कश्मीर समेत देश के अन्य भागों में भी नई दिल्ली की तरह आयुर्वेद चिकित्सा संस्थान स्थापित किए जाएंगे। उन्होंने 12 करोड़ की लागत से जम्मू कश्मीर के प्रत्येक जिले में 50 बिस्तरों वाला आयुश अस्पताल स्थापित करने का एलान भी किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आउटरीच कार्यक्रम के तहत कश्मीर के दौरे पर आए केंद्रीय मंत्री नायक ने श्रीनगर में शेरे कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (एसकेआइसीसी) में आयुश दवा को प्रचारित-प्रसारित करने के लिए आयोजित एक समारोह में भाग लेने के अलावा शहर में विकास की कई मेगा परियोजनाओं का भी ई-उदघाटन किया। उन्होंने जम्मू कश्मीर में स्थापित किए जा रहे स्वास्थ्य और आयुश केंद्रों के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि परंपरागत, सुलभ और सस्ती उपचार सुविधाएं पूरे प्रदेश में विशेषकर ग्रामीण इलाकों में पहुंचाई जा रही हैं। उन्होंने जम्मू कश्मीर में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सेवा ढांचे को मजबूत और विकसित बनाने के लिए उदार वित्तीय सहायता का यकीन दिलाया। इस अवसर पर स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री अटल डुल्लु, जिला उपायुक्त श्रीनगर डॉ. शाहिद इकबाल चौधरी आदि मौजूद थे।

बाद में केंद्रीय मंत्री ने श्रीनगर के विभिन्न हिस्सों से आए जन प्रतिनिधिमंडलों से भी मुलाकात की। किसी ने अपने क्षेत्र के विकास तो किसी ने जम्मू-श्रीनगर हाईवे को सुचारू बनाने में मदद करने अलावा जम्मू कश्मीर में पर्यटन को बढ़ाने के लिए हवाई जहाज की टिकटों की किराया दरों को सस्ता करने पर जोर दिया।

मुर्मु बोले-नहीं मिल रही पर्याप्त बिजली, मंत्री ने कहा-केंद्र दूर करेगी समस्या

उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने वीरवार को कहा कि राज्य को जितनी बिजली चाहिए, उतनी नहीं मिल पा रही। मात्र उसकी 25 फीसद बिजली ही मिलती है, बाकी बिजली बाहर से खरीदनी पड़ती है। हालांकि बिजली के कई प्रोजेक्ट चल रहे हैं, मगर समस्या अभी भी बनी हुई है। मुर्मू मीरां साहिब के कीरङ्क्षपड गांव में आउटरीच प्रोग्राम के तहत आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। इसपर कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री पुरुषोत्तम रुपाला ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बिजली की समस्या को पूरी तरह दूर करने के लिए केंद्र सरकार वचनबद्ध है। प्रदेश से बिजली संकट को दूर करने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू ही नहीं, बल्कि कश्मीर का किसान भी खुश है। पहले केंद्र से भेजा पैसा गरीब किसान तक नहीं पहुंचता था। अब मोदी सरकार के आने से बिचौलियों का काम खत्म हो गया है। इस मौके पर डिवीजनल कमिश्नर जम्मू संजीव वर्मा, डीसी सुषमा चौहान, ब्लाक खंड अधिकारी सानिया हक खान, बीडीसी चेयरमैन मीरां साहिब दिलीप कुमार भी मौजूद रहे। 

Posted By: Rahul Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस