जम्मू, जागरण संवाददाता। जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांटने और अनुच्छेद 370 के समाप्त होने से बौखलाए पाकिस्तान ने बुधवार को भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापारिक संबंध खत्म करने की घोषणा की है। जम्मू-कश्मीर में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई करने वाले व्यापारियों ने पाकिस्तान की इस हरकत को बचकाना करार देते हुए करार जवाब देते हुए कहा कि पाकिस्तान के पास है क्या, जो वह भारत को बेचेगा। जहां तक जम्मू-कश्मीर की बात है तो यहां पाकिस्तान से किसी आवश्यक वस्तु का आयात नहीं होता।

ऐसी घोषणा से कोई असर नहीं पड़ने वाला। वैसे भी पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान से किसी भी सामान का आयात बंद करने का निर्णय लिया था। वर्तमान में पाकिस्तान से जम्मू-कश्मीर में किसी वस्तु का आयात नहीं हो रहा है। ऐसे में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान केवल अपने देश के लोगों को खुश करने के साथ अपनी कुर्सी बचाने के लिए ऐसे फैसले सुना रहे हैं। पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय व्यापार के तहत जम्मू-कश्मीर में आयात होने वाली सामग्री की बात करें तो वहां से केवल चंद मेवे, अनारदाना, काला नमक व कुछ जड़ी-बूटियां आती थीं। कोई ऐसी आवश्यक खाद्य सामग्री नहीं थी, जिसके बंद होने से यहां कोई असर पडऩे वाला हो। पाकिस्तान कुछ भी कहे, यहां किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। राज्य के व्यापारी किसी भी तरह से पाकिस्तान की वस्तुओं पर निर्भर नहीं हैं। पाक से सामान आयात नहीं होने पर कुछ फर्क नहीं पड़ेगा।

जम्मू-कश्मीर का व्यापारी पूरी तरह आत्मनिर्भर है

  • पाकिस्तान की घोषणा से कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान से कुछ खास आयात नहीं होता। देश के विभिन्न राज्यों से ही हम अधिकतर सामग्री आयात करते हैं। जम्मू-कश्मीर का व्यापारी पूरी तरह आत्मनिर्भर है। पाकिस्तान अगर द्विपक्षीय कारोबार बंद करता है तो इससे किसी को कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है। - रतन लाल महाजन, प्रधान ट्रेडर्स फेडरेशन वेयर हाउस, नेहरू मार्केट

क्रास एलओसी ट्रेड पहले ही बंद है

  • पाकिस्तान के साथ हम कोई रिश्ता नहीं रखना चाहते। क्रॉस एलओसी ट्रेड पहले से ही बंद है। पाकिस्तान ने क्रॉस एलओसी ट्रेड को हवाला राशि व हथियार पहुंचाने का साधन बना लिया था। अच्छा हुआ केंद्र सरकार ने पहले ही इसे बंद कर दिया था। जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान से ऐसा कोई खाद्य पदार्थ नहीं आता, जिसके न आने से यहां किल्लत हो। - दीपक गुप्ता, महासचिव ट्रेडर्स फेडरेशन वेयर हाउस, नेहरू मार्केट

वाघा बार्डर से भी व्यापारी कुछ नहीं मंगवा रहे

  • जम्मू-कश्मीर के व्यापारियों ने वर्षो पहले पाकिस्तान पर निर्भरता छोड़ दी थी। क्रॉस एलओसी ट्रेड जब शुरू हुआ था तो व्यापारियों ने बड़ी उत्सुकता से पाकिस्तान से बहुत सारा सामान मंगवाना शुरू किया था, लेकिन पाक की हरकतों को देखते हुए धीरे-धीरे आयात को कम करते हुए लगभग शून्य कर दिया गया। वर्तमान में क्रॉस एलओसी ट्रेड तो बंद था ही, अमृतसर वाघा बार्डर से भी हम कुछ नहीं मंगवा रहे थे। - मुनीश महाजन, उप-प्रधान ट्रेडर्स फेडरेशन वेयर हाउस, नेहरू मार्केट 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rahul Sharma