श्रीनगर, जेएनएन : लक्षद्वीप की रहने वाली फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने तंज कसते हुए ट्वीट किया। उन्होंने भाजपा नेताओं की तरफ इशारा करते हुए ट्वीट किया है कि पतली चमड़ी के नेताओं को पुराने कानूनों की आड़ में छिपना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने लिखा है कि लोकतंत्री में हर नागरिक को सरकार की आलोचना करने का अधिकार है।

उमर अब्दुल्ला ने यह ट्वीट लक्षद्वीप पुलिस की ओर से फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना के खिलाफ केस दर्ज किए जाने के एक दिन बाद शुक्रवार को किया है। आयशा के खिलाफ लक्षद्वीप की भाजपा इकाई के अध्यक्ष अब्दुल खादर की शिकायत पर देशद्रोह का मुकदमा किया गया। नेकां अध्यक्ष अमर अब्दुल्ला के मुताबिक लक्षद्वीप प्रशासन प्रफुल्ल पटेल की आलोचना करना द्रोशद्राेह का मामला नहीं हो सकता है। लोकतंत्र में आलोचना से बचने वाले नेताओं को विचार करना चाहिए।

ज्ञात रहे कि लक्षद्वीप के भाजपा नेता अब्दुल खादर ने आरोप लगाया है कि आयशा सुल्ताना ने एक मलयालम चैनल में एक बहस के दौरान केंद्र शासित प्रदेश में कोविड-19 के प्रसार के बारे में गलत अफवाह फैलाई थी। उन्होंने कहा था कि केंद्र सरकार ने लक्षद्वीप में कोरोना के प्रसार के लिए जैविक हथियारों का इस्तेमाल किया है। यह जनता में भ्रम फैलाने औ देश की छवि को खराब करने का प्रयास है। इसी आरोप के आधार पर लक्षद्वीप पुलिस ने फिल्म निर्माता आयशा के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज किया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप