जागरण संवाददाता, जम्मू : शहर से सटे तोप शेरखानियां इलाके में काली माता मंदिर के महंत परगट नाथ (60) की शुक्रवार रात गला घोंट कर और पत्थरों से सिर पर वार से हत्या कर दी गई। हत्या के कारणों का पता लगाने में पुलिस जुटी है। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों को भी खंगाला जा रहा है। घटना से क्षेत्र में सनसनी है। महंत कई साल से मंदिर में रह रहे थे।

अखनूर रोड पर नहर के किनारे काली माता का मंदिर कामधेनु फ्लैट्स के पास स्थित है। महंत परगट नाथ मंदिर में पूजा-पाठ करते थे। शनिवार सुबह पूजा करने श्रद्धालु पहुंचने लगे तो अंदर महंत का खून से लथपथ शव पड़ा मिला। महंत के सिर से काफी खून निकल चुका था। श्रद्धालुओं ने इसकी सूचना बख्शी नगर पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर जांच की तो महंत के गले में कुछ निशान पड़े मिले। इससे पहले गला दबाने और बाद में सिर पर पत्थर जैसी किसी भारी वस्तु से वार किए जाने की आशंका हुई। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने फोरेंसिक टीम को भी बुलाया। करीब तीन घंटे तक फोरेंसिक टीम ने मंदिर व शव का मुआयना कर सुबूत जुटाए। घटनास्थल की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी भी करवाई। उसके बाद शव को जीएमसी अस्पताल के शवगृह में पहुंचा दिया। उधर, मंदिर में महंत की हत्या का जैसे ही इलाके के लोगों को पता चला, वे भी मंदिर पहुंचना शुरू हो गए। लोगों का कहना था कि महंत का किसी के साथ कोई विवाद नहीं था। हत्या होने पर सभी सकते में थे। एसडीपीओ बख्शी नगर अमित शर्मा का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। मंदिर को सील कर दिया गया है। पोस्टमार्टम के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

----

सीसीटीवी फुटेज की तलाश

महंत की हत्या के कारणों का पुलिस को सुराग नहीं मिल पाया है। पुलिस अब सीसीटीवी फुटेज की तलाश कर रही है। हालांकि मंदिर में कोई सीसीटीवी कैमरा नहीं लगा था। एसडीपीओ का कहना है कि मंदिर के पास कामधेनु फ्लैट्स हैं। वहां मेन गेट पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। कुछ जगह और कैमरे लगे दिखे हैं। दो टीमों को सीसीटीवी कैमरों की फुटेज हासिल करने में लगाया गया है। पुलिस शुक्रवार रात से लेकर शनिवार सुबह तक के समय के बीच फुटेज हासिल कर उसकी जांच करेगी ताकि कोई सुराग मिल सके। पुलिस उन लोगों का भी पता लगा रही है जिनका महंत के पास आना-जाना था और वे रात को भी वहां आते थे।

---

विवाद के पहलू पर भी जांच

पुलिस मंदिर को लेकर किसी तरह के विवाद के पहलू से भी जांच कर रही है। महंत मूलत: कहां के निवासी थे, कब से मंदिर में पूजा कर रहे थे, इसका भी पता लगाया जा रहा है। उधर, पुलिस ने मंदिर के अलावा वहां नहर किनारे व अन्य जगहों की तलाशी ली ताकि वहां से खून लगा कोई पत्थर या अन्य वस्तु नहीं मिली।

---

डॉक्टरों का बोर्ड करेगा पोस्टमार्टम

महंत के शव का शनिवार को पोस्टमार्टम नहीं करवाया गया। एसडीपीओ ने बताया कि शव के पोस्टमार्टम के लिए डॉक्टरों के बोर्ड का गठन करवाया जाएगा। बोर्ड पोस्टमार्टम करेगा ताकि हत्या किस तरीके से हुई, इसका पता चल सके। पोस्टमार्टम व फोरेंसिक रिपोर्ट इस मामले में पुलिस के लिए अहम होगी। सीसीटीवी फुटेज भी हासिल करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप