जम्मू, जागरण संवाददाता। बेसब्री से मानसून के आने का इंतजार कर रहे जम्मू-कश्मीर के लोगों का इंतजार शनिवार को समाप्त हुआ। मानसून ने राज्य में दस्तक दी और लोगों ने लू और प्रचंड गर्मी से राहत की सांस ली। दिन भर मौसम सुहावना रहा। जिसका लोगों ने खूब लुत्फ उठाया। पिछले वर्ष 26 जून को मानसून ने जम्मू में दस्तक दिया था। इस वर्ष 6 जुलाई को मानसून ने राज्य में दस्तक दी है। अमूमन जम्मू में मानूसन 27 जून से 2 जुलाई के बीच पहुंच जाता है।

मानसून के राज्य में दस्तक देने से किसानों ने राहत की सांस ली है। जून महीने में जम्मू संभाग के जिला रामबन को छोड़ दूसरे सभी जिलों में सामान्य से 90 प्रतिशत बारिश कम हुई है। वीरवार को हुई बारिश के बाद जरूर लू और प्रचंड गर्मी से हल्की राहत मिली थी। मौसम विज्ञान केंद्र, श्रीनगर के निदेशक सोनम लोटस ने बताया कि मानसून ने राज्य में प्रवेश कर लिया है। आने वाले दिनों में अच्छी बारिश की संभावना है। तापमान में कमी आएगी लेकिन उमस में बढो़तरी होगी।

मानूसन के जम्मू पहुंचने पर किसानों खासकर कंडी क्षेत्र के किसानों ने भी राहत की सांस ली है। मानसून लेट होने के कारण बारिश पर निर्भर किसान अभी तक बिजाई भी नहीं कर पाए थे। कृषि विशेषज्ञ सागर शर्मा ने बताया कि अमूमन जून में बिजाई हो जाती है। किसान स्थानीय बारिश के सहारे बिजाई कर लेते हैं और मानसून पूर्व बारिश से फसल चल पड़ती है। इस बार मानसून तो लेट हुआ ही स्थानीय बारिश और मानसून पूर्व की बारिश भी नहीं के बराबर ही हुई हे। अब मानसून ठीक रहे तो ही किसानों की फसल बच सकती है।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप