राज्य ब्यूरो, जम्मू : समग्र शिक्षा के तहत केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में लाइब्रेरी कल्चर को बढ़ावा दिया जाएगा। स्कूलों में लाइब्रेरियों में पुस्तकें खरीदने, लाइब्रेरी गतिविधियों को बढ़ाने और अधिक ग्रांट हासिल करने के लिए काम होगा। इस सिलसिले में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव बीके सिंह ने दस दिसंबर 2021 को बैठक बुलाई है। इस बैठक में जम्मू कश्मीर बोर्ड आफ स्कूल एजूकेशन के चेयरपर्सन, स्टेट काउंसिल फार एजूकेशन, रिसर्च एंड ट्रेनिग के निदेशक, स्कूल शिक्षा विभाग जम्मू के निदेशक, स्कूल शिक्षा विभाग कश्मीर के निदेशक, समग्र शिक्षा के प्रोजेक्ट निदेशक, स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक प्लानिग, स्टेट काउंसिल फार एजूकेशन, रिसर्च एंड ट्रेनिग के संयुक्त निदेशक जम्मू व कश्मीर शामिल होंगे। इसमें केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की तरफ से समग्र शिक्षा के तहत जम्मू कश्मीर में लाइब्रेरी ग्रांट के नियमों, स्कूलों में लाइब्रेरी कल्चर को बढ़ावा देने पर विचार विमर्श किया जाएगा। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने 28 अक्टूबर 2021 को आदेश जारी किया था जिसमें लाइब्रेरियों को बढ़ावा देने के लिए नियम जारी किए गए। इनमें लाइब्रेरी पुस्तकें खरीदने, प्रिटिग करने, लाइब्रेरियां स्थापित करने व प्रबंधन करने, लाइब्रेरी गतिविधियों की सूची, रीडिग के कल्चर को बढ़ावा देने, समग्र शिक्षा के तहत लाइब्रेरियों के लिए ग्रांट का उचित इस्तेमाल करना शामिल है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 में लाइब्रेरी कल्चर को बढ़ावा देने पर विशेष ध्यान देने का प्रावधान है। लाइब्रेरी ढांचे को मजबूत करने पर ध्यान दिया गया है। समग्र शिक्षा के तहत लाइब्रेरी ग्रांट का प्रावधान साल 2018-19 के दौरान लागू किया था लेकिन अब इनकी समीक्षा की गई है ताकि अधिक से अधिक लाइब्रेरी ग्रांट उपलब्ध हो।

बताते चले कि जम्मू कश्मीर के विश्वविद्यालयों, कालेजों व हायर सेकेंडरी स्कूलों में लाइब्रेरियों का पर्याप्त ढांचा मौजूद है मगर स्कूलों में सुविधाएं कम हैं। इसलिए समग्र शिक्षा के तहत इस कल्चर को बढ़ावा देकर सुविधाएं उपलब्ध होगी। समग्र शिक्षा के तहत उच्च स्तरीय बैठक कर लाइब्रेरी ग्रांट के मसौदे पर चर्चा होगी। स्कूलों में लाइब्रेरियां स्थापित करने, उनकी स्थिति, जरूरत की ग्रांट पर विचार होगा। कोरोना से उपजे हालात के कारण इस समय जम्मू कश्मीर में स्कूल बंद है लेकिन सुविधाएं बढ़ाने पर ध्यान दिया जा रहा है।

Edited By: Jagran