राज्य ब्यूरो, जम्मू : कारगिल युद्ध और सैन्य अभियानों के दौरान अपनी बहादुरी का लोहा मनवाने वाली सेना की लद्दाख स्काउट्स कजाकिस्तान के ओतर में युद्ध कौशल दिखाएगी।

पांच लद्दाख स्काउट्स भारतीय-कजाकिस्तान सेनाओं के संयुक्त सैन्य अभ्यास काजिन्द 2018 में देश का प्रतिनिधित्व कर रही है। संयुक्त सैन्य अभ्यास मंगलवार को दोनों देशों के ध्वज फहराने और जन मन गण के साथ शुरू हो गया। इस दौरान कजाक सेना की बैटल ट्रे¨नग के आर्मी कमांडर मेजर जनरल जहूमाकीव अलमाज ने भारतीय सेना का स्वागत किया। इस दौरान दोनों सेनाओं के बारे में एक दूसरे को जानकारी देने के साथ आजादी, एकता और अनुशासन को लेकर दोनों देशों की सोच के बारे में बताया गया। इस दौरान संयुक्त अभ्यास की रूपरेखा के बारे में भी जानकारी दी गई।

दोनों देशों के सेनाओं के संयुक्त सैन्य अभ्यास का यह तीसरा चरण है। संयुक्त अभ्यास कजाकिस्तान के अलमटी से 175 किलोमीटर दूर ओतर में शुरू हुआ। इस मौके पर दोनों सेनाओं के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। कजाक सेना का प्रतिनिधित्व मिलिट्री बेस 85395 कर रही है। भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व लद्दाख स्काउट्स कर रही है।

इसी बीच 14 दिन के संयुक्त अभ्यास के दौरान दोनों सेनाएं युद्ध कौशल, आधुनिक हथियारों के इस्तेमाल और आतंकवाद की चुनौती से निपटने जैसे मुद्दों पर मिलकर काम करेंगी। इसमें आतंकियों के मंसूबे नकारने, उन्हें तलाश कर खत्म करने, आईडी निष्क्रिय बनाने व क्विक रिएक्शन पार्टियों को सक्रिय बनाना शामिल है। इसके साथ दोनों देशों की सेनाएं भविष्य की चुनौतियों से निपटने की रणनीति पर भी कार्रवाई करेंगी।

Posted By: Jagran