जम्मू, राज्य ब्यूरो।Kashmir Situation: कश्मीर के स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ने लगी है। कश्मीर के स्कूलों में अब 20 फीसद बच्चे पढ़ाई के लिए आ रहे हैं। वहीं, जम्मू संभाग के स्कूलों में बच्चों की संख्या शत-प्रतिशत है। जम्मू कश्मीर के किसी भी भाग में लोगों के आने जाने पर कोई पाबंदी नहीं है।

कश्मीर में सभी 1,02,069 लैंडलाइन फोन बहाल कर दिए गए हैं। लगभग 84 फीसद मोबाइल फोन भी चल रहे हैं। कश्मीर में लैंडलाइन फोन को दो महीने पहले ही बहाल करना शुरू कर दिया गया था। जबकि पोस्टपेड मोबाइल फोन 14 अक्टूबर को ही बहाल किए गए हैं।

अधिकारियों के अनुसार कश्मीर में हालात तेजी से सुधर रहे हैं। इसके बाद ही 20 फीसद से अधिक बच्चे स्कूलों में आना शुरू हुए हैं। इनकी संख्या बढ़ रही है। कश्मीर के स्कूलों में शिक्षकों की हाजिरी 86.3 फीसद है। जम्मू संभाग में हाजिरी शत-प्रतिशत है। पूरे जम्मू-कश्मीर में 21,328 स्कूलों में पढ़ाई हो रही है, जो कुल स्कूलों का 98 फीसद है। स्टेट बोर्ड स्कूलों में परीक्षा की तिथि पहले ही घोषित हो चुकी है।

अधिकारियों के अनुसार 202 थानों के अंतर्गत कोई पाबंदी नहीं है। जम्मू कश्मीर के सभी 130 प्रमुख अस्पतालों और 4359 अन्य स्वास्थ्य संस्थानों में भी काम हो रहा है। हर दिन औसतन पांच सौ सर्जरी हो रही है। 65 हजार मरीज ओपीडी में अपनी जांच करवा रहे हैं। 

कश्मीर में फिर सजने लगा संडे बाजार

कश्मीर में रविवार को सजने वाले बाजार में लोगों की भीड़ रही। हालांकि कश्मीर के कई भागों में जनजीवन प्रभावित रहा। श्रीनगर के प्रमुख बाजार बंद रहे और सार्वजनिक परिवहन भी सड़कों से गायब रहे, लेकिन निजी वाहन व ऑटो रिक्शा आम दिनों की तरह ही सड़कों पर चलते रहे।

श्रीनगर के टीआरसी चौक-बटमालू में रविवार को सुबह से ही कई रेहडि़यां सजी हुई थीं। कश्मीर में यह संडे बाजार के नाम से मशहूर है। यहां पर बड़ी संख्या में लोग खरीदारी करने के लिए आते हैं। जम्मू कश्मीर के पुनर्गठन के बाद पांच अगस्त से करीब एक महीने तक संडे बाजार प्रभावित हुआ, लेकिन अब फिर पहले की तरह ही यह बाजार सजने लगा है। लोग खरीदारी करने के लिए उमड़ रहे हैं।

सर्दियों के मौसम शुरू होते ही गर्म कपड़े खरीदने वालों की भीड़ बढ़ने लगी है। रविवार की सुबह लाल चौक सहित कुछ अन्य क्षेत्रों में कुछ देर के लिए दुकानें भी खुली थीं, लेकिन अधिकांश क्षेत्रों में मुख्य बजार बंद ही रहे। वहीं, कश्मीर व जम्मू में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं पूरी तरह बंद रही। गौरतलब है कि सरकार ने कश्मीर में पहले से ही कई नेताओं को नजरबंद किया हुआ है।

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप