श्रीनगर, जेएनएन। उत्तरी कश्मीर के जिला बांडीपोर में युवाओं को बरगलाकर उन्हें आतंकी संगठनों में शामिल करने का काम कर रहे द रजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) के दो ओवर ग्राउंड वर्करों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि ये दोनों पिछले काफी समय से क्षेत्र में सक्रिय थे। क्षेत्र के युवाओं को कथित जिहाद का पाठ पढ़ाकर उन्हें आतंकी सगठनों में शामिल करने करने वाले इन दोनों ओजीडब्ल्यू की पुलिस को काफी समय से तलाश थी।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आज बुधवार सुबह उन्हें विश्वसनीय सूत्रों से यह सूचना मिली कि ये दोनों ओवरग्राउंड वर्कर बांडीपोरा के अरागाम इलाके में छिपे हुए हैं। पुलिस की एसओजी, सेना की 14 आरआर और सीआरपीएफ की 3 बटालियन की संयुक्त टीम इलाके में पहुंची और उन्होंने दोनों की तलाश शुरू कर दी। इसी अभियान के दौरान उन्हाेंने एक मकान में छिपे दोनों ओवरग्राउंड वर्करों को गिरफ्तार कर लिया। इनकी पहचान मुश्ताक अहमद पारे पुत्र बशीर अहमद पारे निवासी गुंडपोरा रामपुरा, सज्जाद अहमद सोफी पुत्र गुलाम मोहम्मद सोफी निवासी सोफीगुंड त्राल के रूप में हुई है।

प्राथमिक जांच में इन दोनों ओवरग्राउंड वर्करों ने यह माना कि वे स्थानीय युवाओं को टीआरएफ में शामिल होने के लिए उकसाते थे। यही नहीं वह बांडीपोर में आने वाले आतंकियों के ठहरने, उनके खाने पीने की व्यवस्था भी करते थे। जरूरत पड़ने पर उन तक हथियार भी पहुंचाते थे। यही नहीं क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी होने पर वह आतंकियों को सुरक्षित वहां से निकालने का काम भी करते आ रहे थे।

पुलिस ने बताया कि तलाशी के दौरान उनके पास से टीआरएफ से संबंधित कई आपत्तिजनक दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। दोनों के खिलाफ पुलिस स्टेशन अरागाम में मामला भी दर्ज कर लिया गया है। पूछताछ के आधार पर इस नेटवर्क से जुड़े और लोगों की गिरफ्तारी की भी बात कही जा रही है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप